आपकी कलाइयों पर है मोबाइल कंपनियों की नज़र!

इमेज कॉपीरइट AP

नन्हे-मुन्ने मोबाइलों से लेकर बड़े छह इंच की सक्रीन के स्मार्टफ़ोन्स तक, मोबाइल कंपनियां लगभग हर आकार और साइज़ की मोबाइलें बना चुकीं हैं.

पारंपरिक मोबाइल श्रेणी में गला काट प्रतियोगिता और बाज़ार में उपलब्ध घरेलू कंपनियों के सस्ते विकल्पों की वजह से बड़ी कंपनियां अब कुछ नया करने की कोशिश कर रहीं हैं.

और इस काम के लिए उन्हें ज़रूरत है आपकी कलाइयों की.

सैमसंग और सोनी जैसी हैंडसेट निर्माता कंपनियां अब आपको पहनाना चाहतीं हैं ‘स्मार्टवॉच’ और ‘स्मार्टब्रेस्लेट’.

कितने कदम चले, बताएगी घड़ी!

कंपनियां दावा करतीं हैं कि स्मार्ट ब्रेसलेट आपकी फ़िटनेस का हिसाब रख सकता है, आप कितने क़दम चले और कितनी कैलरीज़ घटाईं इसे रिकॉर्ड कर सकता है.

वहीं स्मार्टवॉच आपके कॉल और एसएमएस को रिसीव कर सकती है, आपको ईमेल पढ़वा सकती है, बिल्कुल जेम्स बॉन्ड स्टाइल में.

स्पेन के शहर बार्सिलोना में हो रहे मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में कई कंपनियों ने यही बैंड और घड़ियां सबके सामने नुमाइश के लिए पेश की हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

उत्पाद तो बन गए, लेकिन खरीदेगा कौन? अगर आप भी ये सोच रहे हैं तो ग़ौर कीजिए मैनेजमेंट कंस्लटिंग सर्विसेज़ कंपनी एक्सेंचर के सर्वे पर.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के अनुसार तेईस देशों में 23 हज़ार उपभोक्ताओं के बीच किए गए सर्वे में एक्सेंचर ने पाया कि 46 फ़ीसदी लोगों की स्मार्टघड़ियों में और 42 फ़ीसदी लोगों की स्मार्टग्लास में रूचि है.

घड़ी पर कॉल

ये उत्पाद खासतौर उन ग्राहकों को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं जो स्वास्थ्य के प्रति सजग हों और अपनी गतिविधियों का हिसाब रखना चाहते हों.

सैमसंग की स्मार्टघड़ी गैलेक्सी गियर को भारत में कोई खास प्रतिक्रिया तो नहीं मिली लेकिन बार्सिलोना में कंपनी ने एक और स्मार्टवॉच लॉन्च कर दी.

सैमसंग का दावा है कि ‘गैलेक्सी गियर फ़िट’ दुनिया की सबसे पहली सुपर एमोलेड टच डिस्प्ले वाली स्मार्टघड़ी है. ये मोबाइल नोटिफिकेशंस आपकी कलाई पर दिखा सकता है, कॉल रिसीव या काट सकता है और गाने भी सुना सकता है.

इमेज कॉपीरइट AP

वहीं सोनी ने भी स्मार्ट बैंड लॉन्च किया, जो सभी तरह के मौसमों और तापमान के लिए बनाया गया है. कंपनी का दावा है कि इस बैंड की बैटरी एक हफ्ते तक रह सकती है.

दोनों उत्पाद मार्च में बाज़ार में आ सकते हैं. सोनी के स्मार्टबैंड की क़ीमत दस हज़ार रुपए तक हो सकती है, जबकि सैमसंग की गियर फ़िट घड़ी की क़ीमतों पर सिर्फ क्यास ही लगाए जा रहे हैं.

लेकिन जो काम ये घड़ियां करती हैं वो सभी काम फ़ोन्स पर हो जाते हैं. ऐसे में अब चुनाव आपको करना है कि आप जेम्स बॉन्ड की घड़ी जैसे किसी गैजेट के लिए अपना बटुआ हल्का करना चाहते हैं या नहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार