देर से पिता बनने पर बच्चा हो सकता है मानसिक बीमार

  • 1 मार्च 2014
नवजात बच्चे का हाथ

अमरीका और स्वीडन के वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में पता लगाया है कि 45 साल की आयु के बाद पिता बनने वालों के बच्चों में मानसिक स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों का ख़तरा अधिक होता है.

इस अध्ययन में वैज्ञानिकों ने स्वीडन में 1973 से 2001 के बीच पैदा हुए 26 लाख लोगों के शिक्षा, स्वास्थ्य और पारिवारिक स्थिति से संबंधित आंकड़ों का विश्लेषण किया.

अध्ययन में दो तरह के लोगों को शामिल किया गया, एक वो जिनके पैदा होते समय उनके पिता की आयु 20 से 26 साल के बीच थी और दूसरे वो जिनके पिता की आयु 45 साल या उससे अधिक थी.

इसमें पाया गया कि अधिक आयु में पिता बनने वालों के बच्चों में ऑटिज्म, स्किट्सोफ्रीनिया, आत्महत्या की प्रवृत्ति और कम आईक्यू जैसी मानसिक बीमारियों के विकसित होने की आशंका अधिक थी.

हालांकि अध्ययनकर्ताओं के मुताबिक़ बड़ी उम्र में पिता बने लोगों के बच्चों में मानसिक बीमारियों के विकसित होने की संभावना एक फ़ीसद से भी कम होती है.

पिता बनने की सही उम्र

अध्ययन के नतीजे अमरीकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल जेएएमए के ऑनलाइन संस्करण में बुधवार को प्रकाशित हुए.

इसके प्रमुख लेखक अमरीका के इंडियाना विश्वविद्यालय के मनोवैज्ञानिक और मस्तिष्क विभाग के एसोसिएट प्रोफ़ेसर ब्रायन डिओफ़्रोनियो ने एमाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा कि इसके नतीज़ों से वह चकित थे.

उन्होंने कहा कि पिता बनने के लिए उम्र के साथ विशेष संबंध इसके पहले हुए अध्ययनों की तुलना में बहुत अधिक था.

उन्होंने कहा कि अक्सर लोग मुझसे पूछते हैं कि पिता बनने की सही आयु क्या है. लेकिन इसका कोई निश्चित उत्तर नहीं है. ऐसी कोई आयु नहीं है जिसमें पिता बनना सही है और उसके बाद पिता बनना ख़तरनाक.

अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि जिन बच्चों के पिता की उम्र 45 साल या उससे अधिक थी उनमें उन बच्चों की तुलना में, जिनके पिता की आयु 24 साल तक थी, ऑटिज्म की आंशका साढ़े तीन गुना अधिक थी.

वहीं ऐसे बच्चों में आत्महत्या की प्रवृत्ति ढाई गुना अधिक होने की आशंका थी.

प्रवृत्ति

पिछले चार दशकों में महिलाओं और पुरुषों में अधिक आयु में बच्चे पैदा करने में की प्रवृत्ति देखी जा रही है.

अमरीका में बीमारियों की रोकथाम करने वाले केंद्र के आंकड़ों के मुताबिक़ पहली बार माँ बनने की औसत आयु 1970 में 21.5 साल थी, जो 2011 में बढ़कर 25.6 साल हो गई.

इंडियाना विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के मुताबिक़ पुरुषों में भी पहली बार पिता बनने की औसत आयु तीन साल बढ़ गई है.

आनुवांशिकी वैज्ञानिक और ड्यूक विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफ़ेसर सिमोन ग्रिगोरी ने समाचार एजेंसी एपी से कहा कि अपने व्यापक दायरे के कारण यह अध्ययन बहुत प्रभावशाली है.

उन्होंने कहा कि अध्ययनकर्ताओं ने इसके लिए अध्ययन में शामिल किए गए लोगों के जन्म से संबंधित दस्तावेज़ों, उनके मानसिक इलाज, भाई-बहनों के स्वास्थ्य, शिक्षा और सामाजिक स्थिति के दस्तावेज़ खंगाले.

वह कहते हैं कि यहाँ यह कहने का कोई कारण नहीं है कि अधिक आयु के लोगों को पिता नहीं बनना चाहिए. वो कहते हैं कि इसके लिए अभी और शोध की ज़रूरत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार