छेड़छाड़ पर 'आत्महत्या' कर लेगा बोइंग का फ़ोन

बोइंग स्मार्टफ़ोन इमेज कॉपीरइट Boeing

यात्री विमान बनाने वाली अमरीकी कंपनी बोइंग ने एक ऐसा स्मार्टफ़ोन विकसित किया है जो बेहद गुप्त बातचीत को सुरक्षित रख सकता है.

अगर इस फ़ोन के साथ छेड़छाड़ की जाती है, तो यह ख़ुद ब ख़ुद किसी भी डेटा को हटा देता है और ख़ुद को बेकार बना देता है.

कंपनी का कहना है कि वह उन संस्थानों की मदद करना चाहती है जिन्हें "अपना काम पूरा करने के लिए आंकड़ों तक विश्वसनीय पहुंच चाहिए होती है."

ब्लैक, नाम का यह फ़ोन बेहद-सुरक्षित स्मार्टफ़ोन के बढ़ते बाज़ार का हिस्सा बन गया है.

बार्सिलोना में मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस में व्यापारिक गतिविधियों और निजी डेटा को सुरक्षित रखने के मद्देनज़र एक ब्लैकफ़ोन को पेश करने की घोषणा की गई.

बोइंग अमरीकी राष्ट्रपति सहित कई अमरीकी अधिकारियों को सुरक्षित संचार मुहैया करवाती है.

आम इस्तेमाल का नहीं

बोइंग का ब्लैक फ़ोन आम इस्तेमाल के लिए नहीं है और अब तक इसकी क़ीमत या बाज़ार में आने की तारीख़ का भी पता नहीं है.

कंपनी का कहना है कि इसे बनाने में 36 महीने लगे. इसके लिए हाल ही में अधिग्रहित मोबाइल टेक्नॉलॉजी कंपनियों की विशेषज्ञता का भी फ़ायदा उठाया गया.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ब्लैक, नाम का यह फ़ोन बेहद-सुरक्षित स्मार्टफ़ोनों के बढ़ते बाज़ार का हिस्सा बन गया है.

बोइंग की वेबसाइट पर कहा गया है कि फ़ोन में दो सिम कार्ड हैं ताकि सरकारी और व्यापारिक नेटवर्क में से किसी एक को चुना जा सके.

यह स्मार्टफ़ोन गूगल के एंड्रॉएड ऑपरेटिंग सिस्टम के उस संस्करण का इस्तेमाल करता है, जो विशेषकर इसी के लिए बनाया गया है, बोइंग ने इसमें अपने सिक्योरिटी ऐप भी डाले हैं.

लेकिन 'ब्लैक' दूसरे फ़ोन से सुरक्षा को लेकर जहां आगे निकला है वो है हार्डवेयर में किए गए बदलाव.

अमरीका के फ़ेडरल कम्युनिकेशन कमीशन को भेजे गए दस्तावेज़ों में कंपनी ने कहा है, "बोइंग के ब्लैक फ़ोन में कोई भी ऐसा पुर्ज़ा नहीं है जिसकी मरम्मत की जा सके और इसकी सर्विस करने की या पुर्ज़े को बदलने की कोई भी कोशिश उपकरण को नष्ट कर देगी."

सील्ड उपकरण

कंपनी ने कहा, "बोइंग ब्लैक को एक सील्ड उपकरण के रूप में तैयार किया गया है. इसे चारों ओर से एपॉक्सी (बेहद मजबूत गोंद) और पेंचों से बंद किया गया है, जिनके सिरे टैंपर-प्रूफ़ कवरिंग से ढके हुए हैं ताकि इसे खोलने की किसी भी कोशिश का पता चल सके."

कंपनी ने मुताबिक़, "इसके खोल को तोड़कर खोलने की कोई भी कोशिश ऐसी प्रक्रिया को सक्रिय कर देगी जिससे डेटा और सॉफ़्टवेयर ख़ुद-ब-ख़ुद डिलीट हो जाएगा और ये उपकरण चलने योग्य नहीं रह जाएगा."

इसके अलावा फ़ोन के हार्डवेयर में बायोमैट्रिक सेंसर, सैटेलाइट रिसीवर या सोलर पैनल जोड़े जा सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार