पेपर स्प्रे बुलेट ड्रोन

पेपर स्प्रे बुलेट ड्रोन इमेज कॉपीरइट DESERT WOLF

दक्षिण अफ़्रीका की कंपनी ने एक ऐसा ड्रोन तैयार किया है जो पेपर स्प्रे की गोलियां दाग़ता है.

दक्षिण अफ़्रीकी मूल की कंपनी डेजर्ट वुल्फ़ ने बीबीसी को बताया कि लंदन के ट्रेड शो में प्रदर्शन के बाद एक खनन कंपनी ने इसके 25 यूनिट की ख़रीद के लिए ऑर्डर दिया है.

कंपनी ने इस उपकरण को 'दंगा नियंत्रक हेलीकॉप्टर' के रूप में बाज़ार में उतारा जो 'सुरक्षा कर्मचारियों की जान को ख़तरे में डाले बिना भीड़ से निपटने' में माहिर है.

लेकिन अंतरराष्ट्रीय ट्रेड यूनियन संघ, आईटीयूसी इस उपकरण से क़्ततई सहमत नहीं है.

अंतरराष्ट्रीय ट्रेड यूनियन संघ के प्रवक्ता टिम नूनान कहते हैं, "यह मुश्किल में डालने वाला और विकास का दुश्मन है. हम सब जानते हैं कि वैध विरोध और प्रदर्शनों में शामिल लोगों या कार्यकर्ताओं पर इस तरह की तकनीक का इस्तेमाल करना ठीक नहीं है. हम इसे रोकने के लिए तुरंत क़दम उठाएंगे."

'चकाचौंध करने वाला लेजर'

इमेज कॉपीरइट DESERT WOLF
Image caption डेजर्ट वूल्फ पहले भी उद्योंगों को ड्रोन प्रोडक्ट बेचता रहा है.

डेजर्ट वूल्फ़ की वेबसाइट कहती है कि इसके 'स्कुंक ऑक्टाकोप्टर ड्रोन' में उच्च क्षमता वाले चार पेंटबॉल बैरल लगे हुए हैं जिसमें से प्रत्येक में प्रति सेकेंड 20 गोलियों को चलाने की क्षमता है.

कंपनी का कहना है कि इस ड्रोन को पेपर स्प्रे के अतिरिक्त डाई-मार्कर बॉल्स और सॉलिड प्लास्टिक बॉल्स से लैस किया जा सकता है.

इस उपकरण में एक बार में ब्लाइंडिंग लेजर और भीड़ को चेतावनी देने वाले स्पीकर सहित 4,000 गोलियां को रखने की क्षमता है.

डेजर्ट वूल्फ़ के प्रबंधन निदेशक हेन्नी कीसर ने बीबीसी को बताया, "हमें तुरंत 25 यूनिटों के ऑर्डर मिल गए."

वे आगे कहते हैं "हम ग्राहकों की पहचान जाहिर नहीं कर सकते हैं, लेकिन ये बताने की इजाजत है कि यह एक अंतरराष्ट्रीय खनन कंपनी है."

सुरक्षित समाधान

कीसर का कहना है, "हमने स्कुंक को सुरक्षा जोखिमों से बचने के लिए विकसित किया है."

इमेज कॉपीरइट DEFENCE WEB
Image caption डेजर्ट वूल्फ ने इस ड्रोन को इसी हफ्ते लंदन में प्रदर्शत किया है.

"हम एक और लोनमिन मरीकाना बर्दाश्त नहीं कर सकते. एक ऐसी तकनीक का इस्तेमाल करना जो घातक नहीं हो, मुझे लगता है ज़्यादा सुरक्षित होगा."

लोनमिन मरीकाना वो संदर्भ है, जिसमें 2012 में दक्षिण अफ़्रीका के एक प्लैटिनम खदान पर हुए वेतन विवाद में हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ जिसमें 44 मौतें हुई थीं.

लेकिन अभियान समूह 'रोबोट आर्म्स' की अंतरराष्ट्रीय समिति के अध्यक्ष नुएल शर्की ने चिंता जाहिर की है क इस उपकरण से विरोध को दबाने की प्रवृति और तानाशाही के बढ़ने का खतरा पैदा हो सकता है.

उनका कहना है, "हवा से प्लास्टिक बॉल या गोली दागने से लोग पंगु हो जाते हैं, मारे भी जा सकते हैं."

उन्होंने बताया, "प्रदर्शनकारियों की भीड़ पर पेपर स्प्रे करना एक तरह की यातना है जिसकी अनुमति नहीं दी जानी चाहिए."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार