इबोलाः 1000 मरे, प्रायोगिक दवा की अनुमति

  • 12 अगस्त 2014
इबोला इमेज कॉपीरइट Reuters

विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों की एक समिति ने फ़ैसला किया है कि इबोला वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज के लिए एक्सपेरिमेंटल या प्रायोगिक दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है.

संगठन के मुताबिक़ इबोला से अब तक 1,000 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

संगठन के एथिक्स स्पेशलिस्ट पैनल का कहना है कि मौजूदा हालात में ऐसी दवाओं का प्रयोग करना नैतिक है जिनके असर और विपरीत प्रभाव का पहले से पता नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पैनल ने कहा कि जब तक पूरी प्रक्रिया पारदर्शी रहे, पीड़ित की मंज़ूरी हो और यह वचन दिया जाए कि मरीज़ की गोपनीयता और गरिमा बनाए रखी जाएगी तब तक नए तरीक़े से इलाज स्वीकार्य है.

चार अफ़्रीकी देशों में मौतें

अफ़्रीका के चार देश - लाइबेरिया, गिनी, सियरा लियोन और नाइजीरिया इस साल फ़रवरी से इसकी चपेट में हैं.

इमेज कॉपीरइट

अफ़्रीकी देश लाइबेरिया से मेड्रिड लाए गए, इबोला से संक्रमित एक स्पेनी पादरी, की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई.

दो अमरीकी सहायता कर्मियों का प्रायोगिक दवाओं से इलाज किया जा रहा है. इनकी हालत सुधरती लग रही है.

उधर इबोला से सबसे ज़्यादा प्रभावित लाइबेरिया पहले ही अमरीका की दी जा रही नई दवाओं का इस्तेमाल करने की तैयारी कर चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार