एंड्रॉयड पर हैक हो सकता है जीमेल और कैमरा

हैकिंग इमेज कॉपीरइट Getty

अगर आप स्मार्टफ़ोन पर जीमेल इस्तेमाल करते हैं तो सावधान हो जाएं. फ़ोन में वायरस के ज़रिए आपका ईमेल अकाउंट हैक किया जा सकता है.

यहाँ तक कि आपके फ़ोन कैमरे को हैक करके तस्वीरें भी चुराई जा सकती हैं.

अमरीकी शोधकर्ताओं ने स्मार्टफ़ोन मेमोरी की एक कमज़ोरी का फ़ायदा उठाकर 92 फ़ीसदी की सफलता दर तक जीमेल हैक करने का दावा किया है.

शोधकर्ताओं ने फ़ोन पर एप्लीकेशन के रूप में वायरस डाउनलोड किया और कई चर्चित एप्स में लॉग इन करने में कामयाब हो गए. इन एप्स में जीमेल भी शामिल है.

ये हैकिंग एंड्रॉयड पर अंजाम दी गई. शोधकर्ताओं का मानना है कि अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम पर भी ये तरीक़ा कामयाब हो सकता है.

सुरक्षित तरीक़ा

गूगल के एक प्रवक्ता का कहना है कि कंपनी इस नए शोध का स्वागत करती है. प्रवक्ता ने कहा, "बाहरी शोध एंड्रॉयड को और मज़बूत और सुरक्षित करने का एक तरीक़ा है."

यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशीगन और कैलिफ़ोर्निया के शोधकर्ता सेन डिएगो में होने वाली एक साइबर सुरक्षा कांफ्रेंस में इस शोध को प्रस्तुत करेंगे.

इमेज कॉपीरइट PA

शोधकर्ता चेज़ बैंक, होटल डॉट कॉम और अमेज़न जैसी चर्चित एप्लीकेशन भी हैक करने में कामयाब रहे.

अमेज़न एप्लीकेशन को हैक करना मुश्किल रहा. इसकी सफलता दर सिर्फ़ 48 फ़ीसदी ही रही.

साझा मेमोरी

हैकिंग के लिए शोधकर्ताओं ने वॉलपेपर के रूप में वायरस मोबाइल पर डाउनलोड करवाया और फिर मोबाइल की साझा मेमोरी का इस्तेमाल अन्य एप्लीकेशनों तक पहुंचने में किया.

मोबाइल की साझा मेमोरी तक पहुँच ने शोधकर्ताओं को यह जानकारी दे दी कि कोई व्यक्ति कब जीमेल या अन्य एप्लीकेशन में लॉग इन कर रहा है. इससे वे यूज़रनेम और पासवर्ड हासिल करने में कामयाब रहे.

शोध में शामिल रहे यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया के सहायक प्रोफ़ेसर झियुन कियान ने बताया, "यह धारणा रही है कि एक एप्लीकेशन दूसरी एप्लीकेशन में आसानी से दख़ल नहीं देती है. हमने ये साबित किया कि यह धारणा ग़लत है और एक एप्लीकेशन काफ़ी हद तक दूसरी एप्लीकेशन पर असर डाल सकती है और इसके नतीजे घातक हो सकते हैं."

यही नहीं शोधकर्ता कैमरे को हैक करके तस्वीरें चुराने में भी कामयाब रहे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार