शहरों में किस्म-किस्म की जंगली मक्खियां

जंगली मक्खी

फ्रांस की पत्रिका 'प्लोस वन' में प्रकाशित हाल के शोध में पता चला है कि जंगली मक्खियां भी शहरों की ओर पलायन कर रही हैं.

शोधकर्ताओं के मुताबिक फ्रांस में पाई जाने वाली मक्खियों की 900 प्रजातियों में से लगभग एक तिहाई शहरों में पाई गई.

अकेले बेहद भीड़भाड़ वाले शहर 'सिटी ऑफ लॉयन' में कोई 60 तरह की प्रजातियों की मक्खियां मिली.

अमूमन चिंता जताई जाती है कि शहरों में कीटनाशकों के छिड़काव और दूसरे अन्य कारणों से जंगली मक्खियों की तादात पर नकारात्मक असर पड़ रहा है.

अनुकूल माहौल

इमेज कॉपीरइट EPA

फ्रेंच नेशनल इंस्टीट्यूट फ़ॉर एग्रीकल्चर रिसर्च (आईएनआरए) की शोधकर्ता लॉरा फ़ोर्टेल कहती हैं, "शहरों में मौजूद मक्खियों की प्रजातियों को बने रहने के लिए खाने और रहने की जगह होनी ज़रूरी है."

वह कहती हैं, "शहरी और उपनगरीय इलाकों में साल भर बड़ी संख्या में फूल खिले रहते हैं और ये इलाक़े निकटवर्ती इलाकों से कुछ गर्म भी होते हैं."

दो साल तक चले इस अध्ययन में शहर के विभिन्न स्थानों मसलन इमारतों, सड़कों, औद्योगिक क्षेत्रों आदि 24 जगहों पर जाल लगाए गए थे, जिससे मक्खियों की प्रजातियों का पता चला.

इमेज कॉपीरइट AFP

अध्ययन दल ने 12,872 मक्खियों को पकड़ा और पाया कि ये 291 प्रजातियां थीं

शोध से पता चला कि शहरीकरण बढ़ने से हालाँकि मक्खियों की कुल तादाद में कमी आई है, लेकिन 50 प्रतिशत तक शहरीकरण वाले क्षेत्रों में मक्खियों की प्रजाति उच्चतम स्तर पर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार