क्या फ़ैट फ़ायदेमंद भी हो सकता है?

  • 16 अक्तूबर 2014
इमेज कॉपीरइट AlAMY

आमतौर पर माना जाता है कि वसा (फ़ैट) का अधिक सेवन स्वास्थ्य के नज़रिए से नुक़सानदयक हो सकता है. लेकिन माइकल मोसली की राय इससे ज़ुदा है.

माना जाता है कि संतृप्त वसा धमनियों में अवरोध पैदा कर इंसान को मोटा बना सकती है. लेकिन इस बात के प्रमाण भी मिल रहे हैं कि कुछ संतृप्त वसाओं का सेवन वास्तव में आपका वजन घटाने में सहायक है. यह दिल के लिए भी अच्छा है.

इस साल के शुरू में ब्रिटिश हार्ट फ़ाउंडेशन की ओर से वित्त पोषित एक व्यवस्थित समीक्षा जिसका शीर्षक था, 'आहार के साथ संबध, फैटी एसिड का संचारण और कोरोनरी जोख़िम.' इस रिपोर्ट की काफी चर्चा हुई थी.

हृदय रोगों का ख़तरा

इमेज कॉपीरइट SPL
Image caption कुछ संतृप्त वसाओं का सेवन वजन घटाने में सहायक है

ख़ून के परीक्षण में कुछ तरह के संतृप्त वसाओं की अधिक मात्रा पाई गई, दूध औ दूध उत्पादों में मिलते हैं. इसे मारगारिक एसिड के नाम से जाना जाता है. इससे ह़दय रोगों का ख़तरा कम होता है.

हालांकि कुछ आलोचकों न इसे अपर्याप्त बताते हुए अभी और अध्ययन की ज़रूरत पर ज़ोर दिया.

इस अध्ययन से जुड़ी रहीं कैंब्रिज विश्वविद्यालय के जनस्वास्थ्य विभाग की प्रोफ़ेसर के टी ख्वा कहती हैं कि उनका शोध जंक फूड को भरने का लाइसेंस नहीं था, लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि इस नए शोध ने आहार संबंधी तस्वीर को और अधिक जटिल बना दिया है.

वो कहती हैं, ''यह इस मामले में जटिल है कि कुछ खाद्य पदार्थ, जिनमें संतृप्त वसा बहुत अधिक होती है, वो हृदय रोगों को कम करते हे लगते हैं.''

ख्वा कहती हैं," इस बात के भी अच्छे प्रमाण हैं कि हफ़्ते में कुछ मुट्ठी सूखे मेवे खाने भी हृदय रोग के ख़तरे को कम करेगा, हालांकि तथ्य यह है कि उसमें संतृप्त वसा अधिक होती है.'''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार