'छत्ते के लिए लड़ती हैं' मधुमक्खियां

मधुमक्खियां इमेज कॉपीरइट TOBIAS SMITH

ऑस्ट्रेलिया के ब्रिस्बेन में मधुमक्खियों के झुंडों की महीनों से आपस में चल रही लड़ाई लगभग ख़त्म हो चुकी है.

लड़ाई के दौरान बड़ी तदाद में मधुमक्खियों ने अपनी जान गंवाई.

लड़ाई में मारे जाने वाले मधुमक्खियों के जेनेटिक विश्लेषण में यह पता चला है कि डंकरहित मधुमक्खियों की दो प्रजातियों के बीच एक ही छत्ते पर कब्ज़े को लेकर ये लड़ाई चल रही थी.

हड़पा हुआ छत्ता

इमेज कॉपीरइट paul cinningham

हमला करने वाली मधुमक्खियों के झुंड ने आख़िरकार छत्ते पर पूरी तरह से अपना कब्जा जमा लिया है और अपनी नई रानी को हड़पे हुए छत्ते में बिठा दिया है.

यह रिसर्च पेपर 'द अमरीकन नैचुरलिस्ट' जर्नल में छपा है. अध्ययन में यह बताया गया है कि आश्चर्यजनक रूप से ऐसे हड़पे हुए छत्ते एक जैसे ही होते हैं

ब्रिस्बेन और ऑक्सफोर्ड के पर्यावरण विशेषज्ञों ने एक विशेष छत्ते पर अध्ययन करने के बाद विस्तृत रिपोर्ट दी है.

इसमें ब्रिस्बेन के नज़दीक पाई जाने वाले मधुमक्खियों की प्रजाति रहती थी. क्वींसलैंड यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नॉलॉज़ी के डॉक्टर पॉल कनिंघम के नेतृत्व में यह अध्ययन किया गया.

चिंता

इमेज कॉपीरइट TOBIAS SMITH
Image caption 2008 के जुलाई और अक्तूबर के बीच शोधकर्ता इस तरह के तीन हमलों के गवाह बने.

उन्होंने बीबीसी को बताया, "वे पेड़ों के खोखले छेदों में रहते हैं और शहर के आस-पास आम तौर पर पाए जाते हैं. इस साल लोगों ने इनके बड़े-बड़े झुंडों को पेड़ों और अपने घरों के आस-पास लड़ते हुए देखा."

पॉल कनिंघम कहते हैं, "अगर आप इन झुंडों के नीचे खड़े हैं तो इन्हें हवा में आपस में एक-दूसरे से लड़ते और मर कर गिरते हुए देख सकते हैं."

लड़ाई में हिस्सा लेने वाली ये मधुमक्खियां मादा सदस्य होती है जो प्रजनन नहीं कर सकतीं लेकिन पराग जमा करने और लड़ाई में काम आती है.

डॉक्टर कनिंघम ने कहा कि ब्रिस्बेन के करीब 600 घरों में लोग इन डंक रहित मधुमक्खियों को पालते हैं और उन लोगों ने छत्ते के पास चलने वाले इस 'संहार' पर चिंता व्यक्त की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार