ख़ुशी का 'उम्र और जगह से रिश्ता'

अधेड़ उम्र इमेज कॉपीरइट SPL

लांसेट जर्नल में छपे एक शोध में कहा गया है कि अधेड़ उम्र में आकर इंसान की ख़ुशी थोड़ी कम हो जाती है. कितनी कम हो जाती है ये इस बात पर निर्भर करता है कि आप दुनिया के किस हिस्से में रहते हैं.

शोधकर्ताओं का कहना है कि अमरीका और ब्रिटेन जैसे देशों में रहने वाले लोग अधेड़ उम्र में काफ़ी दुखी हो जाते हैं वैसे उम्र का ये दौर गुजरने के साथ ही उनका दुख कम होता जाता है.

शोध में कहा गया है कि अफ्रीका में रहने वाले लोग कभी भी ख़ुश नहीं रह पाते हैं जबकि पूर्वी यूरोप, पूर्व सोवियत यूनियन और लातिन अमरीकी देशों में बढ़ती उम्र के साथ ख़ुशी का स्तर कम होता जाता है.

क्या है वजह?

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption शोध में कहा गया है कि अफ़्रीका में लोग ताउम्र खुश नहीं रहते

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में प्रोफेसर एंड्र्यू स्टेप्टो का कहना है कि उम्र और ख़ुशी संबंधी इस रुझान के पीछे कई वजहें हैं जो जटिल भी हैं.

शोध में चेतावनी दी गई है कि बीमारियों की वजह से बढ़ती उम्र में जीवन के स्तर पर असर पड़ रहा है.

इस निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए शोधकर्ताओं ने 160 से अधिक देशों से चार वर्ष तक आंकड़े जुटाए.

शोध में शामिल अमरीका की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के एंगस डीटन कहते हैं कि वित्तीय स्थिति इस अवस्था को समझने में मदद कर सकती है.

उनका कहना है, ''ये वो उम्र होती है जब वेतन आमतौर पर अच्छा होता है. लोग भविष्य में बेहतर वेतन और जीवन की आस में वर्तमान को भी दांव पर लगा देते हैं. वे सोचते हैं कि अभी धन कमा लिया जाए तो भविष्य में जीवन बेहतर हो ही जाएगा.''

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में प्रोफेसर एंड्र्यू स्टेप्टो का कहना है कि ख़ुशी को हमेशा आर्थिक स्थिति से नहीं जोड़ा जा सकता लेकिन इससे ख़ुशी कुछ हद तक ज़रूर बढ़ती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार