पृथ्वी के भीतर हो सकते हैं महासागर

फ़ाइल फोटो इमेज कॉपीरइट

एक हीरे के अंदर पाई गई रहस्यपूर्ण चट्टान ने इस सवाल को अहम बनाया कि पृथ्वी की सतह के नीचे क्या-क्या छिपा है.

इस रहस्यपूर्ण चट्टान में पानी के कण मिलना महत्वपूर्ण खोज थी. ये चट्टानें हमें बताती हैं कि पृथ्वी के भीतर, सतह के 500-600 किलोमीटर नीचे सदियों पहले क्या हुआ. और वहां क्या मौजूद है.

वैज्ञानिक दशकों से इन सवालों से जूझ रहे हैं कि पृथ्वी पर पानी कैसे आया, महासागर कैसे बनें और क्या पृथ्वी की सतह के नीचे और महासागर छिपे हुए हैं?

अब तक मनुष्य ने पृथ्वी की सतह के नीचे जो सबसे गहरा गड्ढ़ा बनाया है वो 10 किलोमीटर तक ही पहुँच पाया है.

हम जिस ग्रह पर रहते हैं, उसके बारे में शायद उतना नहीं जानते जितना हम लाखों किलोमीटर दूर मंगल गृह की सतह के बारे में जानते हैं.

आंतरिक क्रोड के रहस्य

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

पृथ्वी की आंतरिक संरचना तीन प्रमुख परतों से हुई है.

ऊपरी सतह भूपर्पटी यानी क्रस्ट, मध्य स्तर मैंटल और आंतरिक और बाहरी स्तर - क्रोड.

इनमें से बाहरी क्रोड तरल अवस्था में है. यह आंतरिक क्रोड के साथ क्रिया कर पृथ्वी में चुंबकीय क्षेत्र पैदा करता है.

ऐसा अनुमान है कि महासागरों के नीचे की परत लगभग पाँच किलोमीटर मोटी हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट DAVID AGUILAR

लेकिन यह छोटी सी परत कई प्रकाश वर्षों के समान भी हो सकती है, क्योंकि इसके बारे में हमारा ज्ञान बहुत कम है.

दशकों से वैज्ञानिकों का और मेरा भी मानना था कि पृथ्वी की सतह पर धूमकेतुओं के टकराने से पानी पैदा हुआ होगा या महासागरों का निर्माण हुआ होगा.

रिंगवुडाइट

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

पृथ्वी के आवरण में मौजूद चट्टानों का महासागरों के निर्माण में योगदान का संकेत मिलता है रहस्यमयी चट्टानों से जो मैग्नीशियम युक्त सिलिकेट हैं और इन्हें रिंगवुडाइट कहते हैं.

दरअसल इन रहस्यमयी चट्टानों में पानी के अंश पाए गए, जिनता हम अनुमान लगाते थे, उससे लगभग 10 गुना.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

मैंने पृथ्वी की सतह से सैकड़ों किलोमीटर अंदर बने रिंगवुडाइट को प्रयोगशाला में बनाने की कोशिश की.

मैंने उन खनिज पदार्थों का इस्तेमाल किया जो रिंगवुडाइट में पाए जाते हैं लेकिन मैं पानी के इस्तेमाल के बिना इस चट्टान का निर्माण नहीं कर पाया.

पानी के इस्तेमाल के साथ ये संभव था. रिंगवुडाइट में काफ़ी मात्रा में पानी पाया जाता है.

इसका मतलब ये हुआ कि महासागरों और पृथ्वी की सतह के नीचे की चट्टानों यानी मैंटल या मध्य स्तर के भीतर भी महासागर मिल सकते हैं.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी फ़्यूचर पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार