सुस्त कंप्यूटर को तेज़ करने के 5 तरीक़े

कम्प्यूटर इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

कंप्यूटर की स्पीड को लेकर बहुत से लोग शिकायत करते नज़र आते हैं. पुराने तो पुराने, नए कंप्यूटर लेने वाले भी कहते नज़र आते हैं कि अभी-अभी कंप्यूटर ख़रीदा है लेकिन ये खुलने में बहुत वक़्त लेता है.

बीबीसी आपको बता रहा है पाँच ऐसे सरल उपाय जिनके आप अपने सुस्त निजी कंप्यूटर की रफ़्तार बढ़ा सकते हैं.

ख़ास बात ये है कि इन तरीकों को अपनाने के लिए आपको कंप्यूटर विशेषज्ञ होने की भी ज़रूरत नहीं.

1-हार्ड डिस्क को डीफ्रैग्मेंट करें

इमेज कॉपीरइट Getty

हो सकता है कि आप यह भी न जानते हों कि डीफ्रैग्मेंट का मतलब क्या होता है लेकिन यह आपके कंप्यूटर के लिए कितना अहम है, इस बात से आप हैरान हो सकते हैं.

असल में डीफ्रैग्मेंटेशन डेटा की सफ़ाई कर फ़ाइलों को पढ़ने और उन तक पहुंचने की कंप्यूटर की रफ़्तार को बढ़ा देता है.

फ़ाइलों के सुरक्षित रखे जाने के तरीक़ों के कारण समय के साथ-साथ हार्ड डिस्क की रफ़्तार भी धीमी पड़ती जाती है.

जैसे-जैसे हार्ड डिस्क फ़ाइलें बनाती है या मिटाती है, ये सूचना एक साथ रहने की बजाय, टुकड़ों में बंट जाती है और डिस्क के विभिन्न हिस्सों में संरक्षित हो जाती है. इस कारण कंप्यूटर को किसी फ़ाइल को ढूंढना मुश्किल होता जाता है.

इसलिए पूरे डिस्क में फैली सूचनाओं के ब्लॉक को व्यवस्थित कर आप न केवल मेमरी में खाली जगह को बढ़ा सकते हैं बल्कि आप इन सूचनाओं को ढूंढने को भी आसान बना देंगे.

और यह बहुत मुश्किल नहीं है. ढेरों ऐसे प्रोग्राम हैं, जो आपके लिए यह काम कर देंगे, जैसे- स्मार्ट डीफ्रैग 3 (माइक्रोसाफ़्ट विंडोज़ 8.1 के लिए) या आईडीफ्रैग (ऐपल के ऑपरेटिंग सिस्टम एक्स के लिए).

2. बेकार फ़ाइलों को हटाएं

इमेज कॉपीरइट Getty

आजकल 200 जीबी से कम की हार्ड डिस्क को भर देना बहुत आसान है. और यह जितना ही भरी होगी, उतनी ही सुस्त भी होगी.

यह संभव है कि आपके पास काफ़ी पुरानी फ़ाइलें हों जिन्हें फिर कभी आप शायद ही इस्तेमाल करें. ये आपके कंप्यूटर की बहुत सारी क़ीमती जगह घेरे रहती हैं.

और इनपर काम करना उतना ही आसान है जितना एक एप को डाउनलोड करना.

बाज़ार में ऐसे ढेरों प्रोग्राम हैं. आप स्पेसस्निफ़र या विनडर्टस्टेट जैसे प्रोग्राम से यह आसानी से जान सकते हैं कि कौन सी फ़ाइल आपके हार्ड डिस्क में सबसे ज़्यादा जगह घेरे हुए है.

यदि आपके पास ओएस एक्स पर चलने वाला मैक कंप्यूटर है तो फाइंडर सर्च सेवा के मार्फ़त यह करना और आसान है.

इस सेवा से आप अपने मैक कंप्यूटर में ऐप, प्रोग्राम, हार्ड डिस्क, फ़ाइल्स, फ़ोल्डर और डीवीडी ड्राइव के बारे में दृश्य और व्यावहारिक दोनों ही तरीक़ों से जान सकते हैं और कोई भी सामग्री आप देख सकते हैं और उसे मिटा सकते हैं.

3-प्रोग्राम को ऑटोमेटिक रन करने से बचें

इमेज कॉपीरइट Getty

अपने कंप्यूटर को तेज़ करने का यह सबसे आसान तरीक़ा है, ख़ासकर तुरंत स्टार्ट करने के मामले में.

यह देखना संभव है कि कौन सा प्रोग्राम आपके कंप्यूटर पर चल रहा है और अगर आप चाहें तो उसे बंद कर सकते हैं.

मैक के ओएस एक्स में एक्टिविटी मॉनिटर के जरिए और विंडोज़ में टास्क मैनेज़र के जरिए आप ये कर सकते हैं.

अगर आपके पास मैक है तो आप सिस्टम प्रिफ़ेरेंसेज़ में जाएं, यूज़र्स और ग्रुप्स का विकल्प चुनें और जिस प्रोग्राम को बंद करना चाहें उसपर क्लिक करें.

अगर आपके पास विंडोज़ कंप्यूटर है तो आप एक निःशुल्क टूल ऑटोरन का इस्तेमाल कर सकते हैं जो अपने आप रन होने वाले प्रोग्राम को नियंत्रित करता है.

4-वाइरस और मैलवेयर को हटाएं

इमेज कॉपीरइट Getty

कुछ लोगों का मत है कि आप बिना एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर के अपना काम चला सकते हैं और उनका तर्क है कि यह बहुत ज़्यादा मेमरी घेरता है और बिजली की अधिक खपत करता है, ख़ासकर पुराने निजी कंप्यूटरों में.

लेकिन जो लोग विशेषज्ञ नहीं हैं, उनके लिए सुरक्षित रहने के लिए एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर लगाना ही बेहतर है.

अपने कंप्यूटर की विशेषता के अनुसार आप एंटीवायरस चुन सकते हैं. जो मेमोरी में सबसे कम जगह घेरता है और कम बिजली ख़पत करता है, वो है माइक्रोसॉफ़्ट सिक्यूरिटी इसेंशियल्स, पांडा क्लाउड वाई एविरा. जबकि पर्सनल कंप्यूटर के लिए यह सूची काफ़ी लंबी है.

हालांकि एक मिथक यह भी है कि मैक के कंप्यूटर में वायरस नहीं घुसता, लेकिन यदि आपका ऐपल कंप्यूटर सामान्य से अधिक धीमे चलता है तो आपको इस बात पर शंका करनी चाहिए. आपको एवास्ट या सोफ़ोज़ जैसे निःशुल्क एंटीवायरस की सुरक्षा ले लेनी चाहिए.

5- वेब एप्लिकेशन का इस्तेमाल करें

इमेज कॉपीरइट AFP

अगर आप गूगल डाक्यूमेंट, एडोब के बज़वर्ड या जोहो या पीपेल जैसे एप्लिकेशन से वो सबकुछ हासिल कर सकते हैं जिसकी आपको ज़रूरत है तो अलग से ऑफ़िस इंस्टाल करने और उसे इस्तेमाल करने की आपको क्यों जहमत उठाने की ज़रूरत क्या है?

एक ब्राउज़र में काम करने वाले आज के वेब एप्लिकेशन लगभग सभी ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं.

इनका दो फायदा है: रन कराने के लिहाज से यह बहुत आसान हैं और ये हार्ड डिस्क में जगह भी नहीं घेरते.

यदि आप इन पांचों तरीक़ों को अपनाते हैं और आपका कंप्यूटर फिर भी बहुत तेजी से नहीं खुलता है तो शायद आपको टेक्निशियन को बुलाने की ज़रूरत है या फिर नई कंप्यूटर ख़रीदने की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार