सौर ऊर्जा विमान को जापान में उतरना पड़ा

  • 1 जून 2015
इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पूरी दुनिया का चक्कर लगाने निकले सौर ऊर्जा से उड़ने वाले विमान को ख़राब मौसम के कारण जापान में लैंड करना पड़ा है.

प्रशांत महासागर को छह दिन में पार करने के लिए चीन से उड़कर हवाई टापू तक जा रहा सोलर इंपल्स विमान जापान सागर के ऊपर खराब मौसम से जूझ रहा था.

सोलर इंपल्स का मकसद इस बात की जांच करना है कि कोई विमान सौर ऊर्जा की मदद से कितनी देर और कितनी दूर तक जा सकता है.

इस विमान के पंख जंबो जेट जैसे हैं जिनमें 17000 सोलर पैनल लगे हुए हैं. इसका वज़न के आम कार जितना है लेकिन इसकी स्पीड काफ़ी कम रहती है.

आगे बेहतर मौसम मिलेगा

इमेज कॉपीरइट

मौसम विज्ञानियों का कहना है कि मौसम के आगे और बदतर होने के पूर्वानुमान है.

इससे पहले उन्होंने पायलट को सलाह दी थी कि वो आसमान में तब तक वहीं बने रहे जहां है, जब तक सफ़र जारी रखने का फैसला नहीं लिया जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty

मौसम वैज्ञानिकों की टीम सोमवार को हालात पर फिर से विचार करने के लिए मिल रही है.

नानजिंग से हवाई द्वीप का सफ़र इसकी यात्रा का सातवां चरण है. सफ़र की शुरुआत मार्च में अबू धाबी से हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार