सात महीने बाद अचानक जाग उठा अंतरिक्ष यान

philae lander इमेज कॉपीरइट AFP

किसी भी धूमकेतु पर उतरने वाला पहला अंतरिक्ष यान 'फ़िली' सात महीने के बाद जाग उठा है.

पिछले साल नवंबर में यूरोपियन स्पेस एजेंसी के 'रोसेटा' नामक यान ने अंतरिक्ष खोजी यान 'फ़िली' को धूमकेतु 67 P पर छोड़ा था.

लेकिन धूमकेतु पर उतरने के 60 घंटों के भीतर ही 'फ़िली' की बैटरी ख़त्म हो गई थी और उसका धरती से संपर्क टूट गया था.

सूर्य की रोशनी से चार्ज हुआ 'फ़िली'

इमेज कॉपीरइट AFP ESA MEDIA LAB

अब धूमकेतु 67 P सूर्य के नज़दीक पहुंच गया है जिससे 'फ़िली' के सोलर पैनल के ज़रिए उसकी बैटरी चार्ज हो गई है.

'फ़िली' प्रोजेक्ट मैनेजर स्टीफन उल्मैक ने कहा, " 'फ़िली' बहुत अच्छी तरह काम कर रहा है. उसका काम करने का तापमान -35 डिग्री से. है औऱ उसके पास 24 वॉट पावर है."

वैज्ञानिक अब इस इंतज़ार में हैं कि 'फ़िली' दोबारा संपर्क कब करेगा.

क्या ढूंढ़ेगा धूमकेतु पर 'फ़िली' ?

इमेज कॉपीरइट ESA

'फ़िली' को धूमकेतु पर बर्फ और चट्टानों की जांच करने के लिए डिज़ाइन किया गया है.

रोसेटा को धूमकेतु तक पहुंचने में 10 साल लग गए थे.

इमेज कॉपीरइट AP

वॉशिंग मशीन के आकार के 'फ़िली' को जब 'रोसेटा' यान ने धूमकेतु पर फेंका तो वह तकरीबन एक किलोमीटर की ऊंचाई तक उछला था.

अपनी बैटरी ख़त्म होने से पहले 'फ़िली' ने कुछ तस्वीरें भेजी थीं जिनसे लगा था कि वह एक गहरे गड्ढे में गिरा हुआ है.

इससे 'फ़िली' के सोलर पैनल तक सूर्य की रोशनी नहीं पहुंच पा रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार