पावर बैंक ख़रीदें तो 7 बातों का रखें ध्यान

मोबाइल फ़ोन की बैटरी को चलते-फिरते चार्ज करने के लिए बड़ी संख्या में लोग पावर बैंक का इस्तेमाल करने लगे हैं.

सभी कंपनियाँ कहती हैं कि उनका पावर बैंक तुरंत फ़ोन चार्ज करता है.

लेकिन दावे तो दावे हैं इसलिए मोबाइल के लिए पावर बैंक खरीदते समय इन 7 बातों का ध्यान जरूर रखें.

  • जो पावर बैंक आप खरीदते हैं उसकी बैटरी स्ट्रेंथ कम से कम स्मार्टफोन के बैटरी जितनी ज़रूर होनी चाहिए.
  • अपने फ़ोन की बैटरी पर लिखी जानकारी ज़रूर पढ़ लें. अगर पावर बैंक की स्ट्रेंथ बैटरी से अधिक है तो बढ़िया है. पावर बैंक का स्ट्रेंथ जितना ज़्यादा 'मिली एम्प आवर' यानी एमएएच होगा उतना अच्छा, क्योंकि आप फ़ोन और टैबलेट दोनों उससे चार्ज कर सकेंगे.
  • इस बात का भी ध्यान रखें कि पावर बैंक का आउटपुट वोल्टेज आपके फ़ोन के बराबर या उससे ज़्यादा हो.
  • अगर आप एक फ़ोन और साथ में एक टैबलेट रखते हैं तो दो चार्जिंग पोर्ट वाले पावर बैंक खरीदें. ज़ाहिर है, आपका समय बचेगा और आपके डिवाइस में बैटरी की जान बनी रहेगी.
  • अगर पावर बैंक में ऑटो कट फ़ीचर है तो इससे वो ओवरचार्ज नहीं होता है. ये ज़्यादा दिन चलता है.
  • आपका पावर बैंक कितना बढ़िया है और कितने अच्छे से आपके फ़ोन को चार्ज करता है, इसका पता लगाने के लिए आप एक माइक्रो यूएसबी चार्जिंग किट ख़रीद सकते हैं जो आपके मोबाइल या पावर बैंक के बीच कनेक्ट हो जाता है. इससे आप इस बात पर नज़र रख सकते हैं कि आपका फ़ोन जल्दी चार्ज होगा या नहीं.
  • अगर चार्ज किट के सभी लाइट ऑन है तो इसका मतलब आपके फ़ोन को पूरी चार्जिंग मिल रही है. अगर सिर्फ एक या दो लाइट ऑन हैं इसका मतलब पावर बैंक कमज़ोर है. ऐसे में या तो आपको नया पावर बैंक खरीदना होगा या उसे फिर से चार्ज करना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार