टैबलेट बाजार में घमासान की तैयारी

इमेज कॉपीरइट Reuters

टैबलेट के बाजार में आइपैड प्रो, सर्फेस प्रो-3 के खिलाफ अब गूगल ने पिक्सेल-C उतारने का ऐलान कर दिया है.

10.2 इंच स्क्रीन वाला ये टैबलेट गूगल के नए ऑपरेटिंग सिस्टम मार्शमैलौ पर चलता है और उसमें एनवीडिया का क्वैड कोर प्रोसेसर है.

गूगल का कहना है कि यह बिल्कुल डेस्कटॉप जैसा काम करता है. इसका स्क्रीन अपने कीबोर्ड से अलग होकर टैबलेट की तरह काम करता है.

पिक्सेल-C टैबलेट अगले महीने बाजार में दिखाई देगा.

टैबलेट के फ़ीचर

सितंबर में लॉन्च हुए 12 इंच स्क्रीन वाले सर्फेस प्रो के फीचर भी कुछ ऐसे ही हैं. इंटेल के i5 कोर प्रोसेसर से इसका सॉफ्टवेयर चलता है और इसकी लिथियम आयन बैटरी आपको नौ घंटे तक सर्फिंग का मौका देती है.

सर्फेस प्रो की रैम 4 गीगाबाइट है लेकिन 90 हज़ार रुपये तक की कीमत वाला ये टैबलेट खरीदना सबके लिए आसान नहीं होगा.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऐपल ने अपने 12.9 इंच की स्क्रीन वाले आइपैड प्रो की घोषणा तो कर दी है लेकिन ये नवंबर में बाज़ारों में दिखाई देगा. ऐपल का भी मानना है कि आईपैड प्रो उसके डेस्कटॉप के जैसा ही बनाया गया है. इसके साथ कीबोर्ड तो नहीं आता है लेकिन आप इसके लिए अलग से कीबोर्ड खरीद सकते हैं.

कंपनियों की कोशिश ये है कि आपके हाथ में वो ऐसा प्रोडक्ट दें जिसे आप ऑफिस और घर दोनों में इस्तेमाल कर सकते हैं. तीनों बड़ी टेक कंपनियां अब चाहती हैं कि आप जेब से उनके टैबलेट के लिए पैसे निकालें. लेकिन सबसे ज़्यादा स्मार्टफोन बेचने वाली कंपनी सैमसंग अब टैबलेट के बजाय फैबलेट पर ध्यान दे रही है.

दुनिया भर में अब स्मार्टफोन और टैबलेट के बीच का प्रोडक्ट, जिसको फैबलेट कहते हैं, अब लोगों में सबसे ज़्यादा पसंद किया जा रहा है इसलिए ऐपल ने हाल ही में बड़े साइज का आईफोन भी बाजार में उतारा है. ग्राहकों की पसंद को देखते हुए कंपनियों ने ऐसा किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार