चलें पैदल, कमाएं डॉलर!

इमेज कॉपीरइट

एक नई डिजिटल क्रिप्टो करेंसी लॉन्च की गई है जिससे इंसान पैदल चलकर कमाई कर सकेगा.

इस करेंसी का नाम है बिटवॉकिंग डॉलर, जो डिजिटल क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन की तरह ही कंप्यूटर से पैदा होगी.

स्मार्टफ़ोन यूज़र फ़ोन पर बिटवॉकिंग एेप की मदद से रिकॉर्ड करेगा कि वो कितने क़दम पैदल चला है. फिर कदमों की गिनती के आधार पर प्रति दस हज़ार क़दमों पर यूज़र को लगभग एक बिटवॉक डॉलर मिलेगा.

शुरू शुरू में, यूज़र को कमाई गई करेंसी ऑनलाइन स्टोर में ख़र्च करने, या उससे नक़द कमाने का मौक़ा मिलेगा.

संस्थापकों का मानना है यह तकनीक विकासशील और ग़रीब देशों में फ़िटनेस उद्योग के विकास में ख़ासी मददगार हो सकती है. इनके अनुमान के अनुसार बिटवॉकिंग योजना ग़रीब देशों के नागरिकों के जीवन को पूरी तरह से बदलकर रख देगी.

प्रोजेक्ट की शुरुआत करने वाले निसान बहार और फ्रेंकी इम्बेसी को इस प्रोजेक्ट के लिए जापानी निवेशकों से शुरुआती दस मिलियन डॉलर की मदद मिली है.

इमेज कॉपीरइट
Image caption कितने कदम चले: यूजर ने कितने कदम चले इसको दिखाता बिट वॉकिंग ऐप

जापानी मदद की बदौलत वे ऐसे बैंक और करेंसी की शुरुआत करेंगे जो चले गए 'कदमों' और किसी भी तरह के हस्तांतरण को सत्यापित करेगा.

इसके अलावा जापानी कंपनी मुराथा एक ऐसे रिस्टबैंड पर शोध कर रही है जो बिटवॉकिंग मापने में स्मार्टफ़ोन का विकल्प बनेगा.

युनाइटेड किंडम में अगले साल होने वाले संगीत समारोह को लेकर संस्थापकों की यूके हाई स्ट्रीट बैंक के साथ साझेदारी की बात भी चल रही है.

इसके अलावा कुछ जूते बनाने वाली कंपनिया इस करेंसी को अपनाने के लिए अपनी सहमति दे चुकी है.

वैसे पैदल चलकर बिटवॉकिंग डॉलर कमाने का यह कोई नया प्रयोग नहीं है. कई स्टार्ट-अप समूह, 'सेहत बनाओ और कमाई करो' का विचार पहले लागू कर चुके हैं. लेकिन गति को सही सही मापने में उन्हें सफलता नहीं मिली.

Image caption बीबीसी क्लिक टीवी शो को इंटरव्यू देते बिट वॉकिंग के संस्थापक

हालांकि बिटवॉकिंग ने क़दमों को मापने के लिए आधिकारिक तौर पर कोई एल्गोरिद्यम जारी नहीं किया है. यह क़दम की गिनती करने के लिए हैंडसेट फ़ोन के जीपीएस पोज़िशन और वाई-फ़ाई कनेक्शन का इस्तेमाल कर रहे हैं.

फ़िलहाल इस योजना की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि बड़े स्पोर्टसवेयर ब्रैंड, स्वास्थ्य बीमा कंपनियां और स्वंयसेवी और पर्यावरण समूह इसके प्रमोशन में कितनी रुचि दिखाते हैं.

क्रिप्‍टो करेंसी एक ऐसी डिजिटल या वर्चुअल करेंसी है, जिसमें सुरक्षा के लिए क्रिप्‍टोग्राफ़ी का इस्‍तेमाल किया जाता है. दुनिया की सबसे पहली क्रिप्‍टो करेंसी बिटकॉइन है, जो 2009 में लॉन्‍च हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)