बर्फ़ पर दौड़ेगी चालक रहित कार

  • 12 जनवरी 2016
फोर्ड की चालक रहित कार इमेज कॉपीरइट FORD

मोटर बनाने वाली दिग्गज कंपनी फ़ोर्ड की चालक रहित कारें अब बर्फ़ में भी फ़र्राटा भरेंगी.

कंपनी के अनुसार बर्फ़ीले मौसम या बर्फ़बारी वाले इलाक़ों में उनके चालक रहित कार का टेस्ट ड्राइव सफल रहा.

बर्फ़ीले मौसम में कार के चलने और उस पर नियंत्रण रखने के लिए एक साल से अधिक समय से परीक्षण चल रहा था.

चालक रहित कार के लिए बर्फ़ की सतह पर चलना बेहद चुनौती भरा होता है. ऐसा इसलिए क्योंकि चालक रहित कार सड़क की दिशा-दशा का पता करने के लिए जिस सेंसर का इस्तेमाल करती है वे सर्दी के मौसम में ठीक से काम नहीं करते.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption खराब मौसम में चालक रहित कार ठीक से काम नहीं करती.

इसके अलावा, गूगल भी बर्फ़ में चलने वाली अपनी स्वचालित कारों का परीक्षण कर रहा है.

चालक रहित कारें अपने आस-पास की स्थितियों का पता लगाने के लिए लाइट डिटेक्शन और रेंजिंग (लिडार) सेंसर की मदद लेती हैं.

लिडार सेंसर बड़ी तेज़ी से लेज़र लाइटों को कार से दूर फेंकता है और फिर पता करता है कि उसमें से कितनी लाइटें परावर्तित होकर वापस आती हैं. लिडार रेडियो वेव की मदद से काम करने वाले रडार की तरह ही काम करता है.

लेकिन लिडार बर्फ़ीले इलाक़ों में ठीक से काम नहीं करता.

इमेज कॉपीरइट FORD
Image caption चालक रहित कार अपने आस पास को भरपूर तरीके से देखती-परखती है.

यही नहीं कार के अगले हिस्से पर मौजूद ऑनबोर्ड कैमरा बर्फ़ के कारण बाधित सड़क को भी नहीं देख पाता.

फ़ोर्ड का कहना है कि इन दिक़्क़तों का हल निकाल लिया गया है.

कंपनी ने बताया कि उन्होंने लिडार सेंसर की प्रोग्रामिंग इस तरीक़े से की है कि वह ज़मीन की बजाय ज़मीन के ऊपर मौजूद चीज़ें जैसे कि इमारत और सड़क के चिह्नों को भांप कर काम करता है.

फिर स्वचालित कार जुटाई गई इन जानकारियों को कार में पहले से मौजूद सड़क के हाई-रेजोल्यूशन मानचित्र से तुलना करता है. यह मानचित्र स्वचालित कार द्वारा अनुकूल मौसम के समय तैयार किया गया मानचित्र होता है. यह कार के कंप्यूटर में मौजूद होता है.

इमेज कॉपीरइट FORD
Image caption बर्फीले मौसम में चालक रहित कार का लिडार सेंसर ठीक से काम नहीं करता.

अब इस मानचित्र की मदद से बर्फ़बारी जैसे ख़राब मौसम में भी स्वचालित कार सड़क को नेविगेट कर लेती है.

फ़ोर्ड ने अपनी स्वचालित कार का परीक्षण मिशीगन यूनिवर्सिटी द्वारा तैयार किए गए मॉडल सिटी में किया है. ऐसा करने वाली फ़ोर्ड पहली कंपनी है.

(यदि आप बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो करने के लिए इस लिंक पर जाएं.)

संबंधित समाचार