आपका 4G मोबाइल इंटरनेट रेंगता क्यों है?

4जी स्मार्टफोन इमेज कॉपीरइट BBC World Service

4G स्मार्टफोन ख़रीदने के बाद क्या आपने देखा है कि आपके स्मार्टफोन पर टेलीकॉम ऑपरेटर के सिग्नल के साथ 4G लिखा होता है या LTE?

4G मोबाइल डेटा टेक्नोलॉजी का एक ख़ास तरीका है जिसे टेलीकॉम स्टैंडर्ड की अंतरराष्ट्रीय संघ, ITU ने मान्यता दी है.

'लॉन्ग टर्म इवोल्यूशन' या LTE एक और तरीक़ा है जिसमें आपको बढ़ते ब्रॉडबैंड स्पीड का फायदा मिलता है.

4G के बारे में ITU ने क़रीब आठ साल पहले स्टैंडर्ड तय किया था.

ITU के स्टैंडर्ड के मुताबिक इसमें मोबाइल इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों के कनेक्शन 100 एमबी प्रति सेकेंड की रफ़्तार से कनेक्ट होने चाहिए.

अगर आप मोबाइल हॉटस्पॉट इस्तेमाल करते हैं तो इसे एक जीबी प्रति सेकेंड की रफ़्तार की कनेक्टिविटी मिलनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट AP

लेकिन अपने स्मार्टफोन पर आपको हमेशा ऐसी रफ़्तार मिलती नहीं है.

इसीलिए ख़ास कर बड़े शहरों में, स्मार्टफोन पर आपको जो रफ़्तार मिलती है वो बहुत कम होती है.

टेलीकॉम कंपनियों ने कई बार अपने विज्ञापनों में अपनी सर्विस को 4G LTE का नाम दिया है.

इससे उन्हें 4G की रफ़्तार दिए बिना 4G सेवा को लोगों को बेचने का मौका मिल गया.

कभी-कभी आपको बेहतर रफ़्तार ज़रूर मिलती है, लेकिन हर समय आपका इंटरनेट फर्राटे से नहीं काम करता है.

वोडाफोन और आइडिया ने कई शहरों में अब 4G सर्विस लॉन्च कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एयरटेल कई शहरों में पहले से ही अपनी सर्विस चला रहा है.

अब सबको इंतज़ार रिलायंस जिओ का है जो अगले दो महीने में ग्राहकों को अपना सर्विस बेचना शुरू कर देगी.

इन सभी कंपनियों को आपको मोबाइल इंटरनेट सर्विस बेचने की जल्दी है. इंटरनेट की रफ़्तार? वो, अब तक, एक अलग कहानी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार