स्मार्टफ़ोन का ब्राउज़र कौन सा होना चाहिए?

स्मार्टफ़ोन इमेज कॉपीरइट Thinkstock

स्मार्टफ़ोन के लिए ब्राउज़र कौन सा इस्तेमाल करना चाहिए? एंड्रॉइड पर क्रोम ब्राउज़र साथ में आता है और ओपेरा, फ़ायरफ़ॉक्स जैसे दूसरे भी ब्राउज़र हैं.

टोर भी एक विकल्प है जो आपके स्मार्टफ़ोन पर बहुत ही धीमा चलेगा .

रॉकमेल्ट, सफारी, डॉल्फ़िन, लिंक बबल, पफ़्फ़िन, मरकरी और इंटरनेट एक्सप्लोरर भी स्मार्टफ़ोन पर आपका ब्राउज़र बनना चाहते हैं.

पर एंड्रॉइड पर शायद ही आप इनमें से कोई ब्राउज़र किसी के भी स्मार्टफ़ोन पर देखेंगे.

इन सभी ब्राउज़र पर आपको अव्वल दर्जे की सिक्योरिटी नहीं मिलेगी जो आप शायद ढूंढ रहे होंगे. उसके लिए घोस्टरी नाम का ब्राउज़र एक विकल्प हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Firfox

सिक्योरिटी के लिहाज़ से टोर बहुत बढ़िया विकल्प है. आपके कमांड अलग अलग नोड से होकर जाएंगे ताकि वो सब की नज़र से बच पाएं.

इंटरनेट का एक ऐसा हिस्सा जिसे 'डीप वेब' कहते हैं. इसके बारे में बहुत कम लोगों को पता है. उसके बारे में भी आप कुछ जानकारी इकठ्ठा कर सकते हैं. यहां पर जो भी जानकारी होती है उन्हें सर्च इंजन पर इंडेक्स करके नहीं रखा जाता है.

फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउज़र चलाने कंपनी मोज़िला की सिक्योरिटी पॉलिसी भी बढ़िया है. इसमें ये साफ़ किया गया है कि आपके बारे में जानकारी अगर क़ानूनी एजेंसियों को चाहिए, तभी दी जाएगी.

अगर उनकी पॉलिसी की मानें तो इसके अलावा आपके बारे में जानकारी कहीं नहीं जाएगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

फ़ायरफ़ॉक्स पर आप ट्रैकिंग से तो बच सकते हैं लेकिन आपको विज्ञापनों को झेलना पड़ेगा.

अगर आप क्रोम ब्राउज़र इस्तेमाल करते रहे हैं और अब बदलना चाहते हैं तो उससे जुडी सभी जानकारी अपने स्मार्टफ़ोन के कंप्यूटर से डिलीट कर सकते हैं.

अगर अपने गूगल अकाउंट को ही डिलीट करना चाहते हैं तो गूगल टेकऑउट का इस्तेमाल कीजिए.

इसे इस्तेमाल करके अपने गूगल अकाउंट से जुड़ी सभी जानकारी को आप बाद में अपनी ज़रूरत के लिए स्टोर कर सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार