अनुमान से कहीं अधिक ख़तरनाक है ज़ीका वायरस

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी स्वास्थ्य अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि अमरीका में ज़ीका वायरस का फैलाव और असर अनुमान से कहीं ज़्यादा हो सकता है.

'सेंटर फ़ॉर डिजीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन' के अधिकारियों का कहना है कि ज़ीका वायरस के बारे में जो नई और आधिकारिक जानकारी मिली हुई है वो शुरुआती संभावनाओं से कहीं ज़्यादा डराने वाली है.

सेंटर फ़ॉर डिजीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की डॉक्टर एने शुचाट कहती हैं, "हमें बिल्कुल तैयार रहने की ज़रूरत है. हमने पहले जो सोचा था उसके मुक़ाबले स्थिति ज़्यादा डराने वाली है. हम उम्मीद करते हैं कि अमरीका में इसका बड़े स्तर पर फैलाव नहीं होगा. लेकिन राज्यों को इससे निपटने के उपायों के साथ तैयार रहना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ज़ीका वायरस के कारण नवजात बच्चों में कई तरह के शारीरिक विकार के मामले सामने आए हैं. इससे सबसे ज़्यादा गर्भवती महिलाओं और गर्भ में पल रहे बच्चों को संक्रमण का ख़तरा होता है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ज़ीका वायरस से निपटने के लिए अमरीकी कांग्रेस से 1.8 अरब डॉलर के आपातकालीन धन की व्यवस्था करने को कहा था.

इमेज कॉपीरइट AP

फ़िलहाल इससे निपटने के लिए इबोला वायरस पर निंयत्रण के लिए बने कोष में बचे 58.9 करोड़ डॉलर का इस्तेमाल हो रहा है.

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ हेल्थ के डॉक्टर एंथनी फाउची कहते हैं कि मच्छर पर रोकथाम, वैक्सीन तैयार करने और इलाज का पता लगाने के लिए बेहतर शोध के लिए और अधिक पैसे की ज़रूरत है.

उन्होंने कहा कि हालिया शोध से पता चला है कि ज़ीका वायरस गर्भ में पल रहे बच्चे के मस्तिष्क के लिए कितना ख़तरनाक़ हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ज़ीका संक्रमण की शुरुआत क़रीब एक साल पहले ब्राज़ील से हुई थी. अमरीका के टेक्सस में ज़ीका संक्रमण का पहला मामला इस साल फ़रवरी में सामने आया था. हालांकि इस मामले में संक्रमण के फैलाव की वजह मच्छर को नहीं बल्कि शारीरिक संबंध को बताया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार