स्मार्टफ़ोन और टैबलेट से हार रहे हैं कंप्यूटर

  • 16 अप्रैल 2016
टैबलेट इमेज कॉपीरइट Thinkstock

2015 में दुनिया भर में 19.5 करोड़ लोगों ने लैपटॉप खरीदा तो 12.9 करोड़ लोगों ने डेस्कटॉप कंप्यूटर ख़रीदा.

मगर इसके मुक़ाबले दुनिया भर में 142.4 करोड़ लोगों ने स्मार्टफ़ोन खरीदे.

2015 में पहली बार ऐसा हुआ जब 33.2 करोड़ टैबलेट दुनिया भर में बिके. ये डेस्कटॉप और लैपटॉप दोनों से ज़्यादा थे.

लोगों की पसंद और स्मार्टफ़ोन और कंप्यूटर की बिक्री के बीच का फ़ासला देखने से लगता है कि कंप्यूटर को देखने का नज़रिया तेज़ी से बदल रहा है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

स्मार्टफ़ोन में जैसे-जैसे बेहतर बैटरी और टेक्नोलॉजी में सुधार हो रहा है स्मार्टफ़ोन आपका साथी बनता जा रहा है.

स्मार्टफ़ोन के लिए आपको कीबोर्ड की ज़रूरत नहीं होती. उसे कहीं ले जाने में दिक़्क़त नहीं होती.

इमेज कॉपीरइट AP

जैसे-जैसे क्लाउड स्टोरेज पर लोगों का विश्वास बढ़ रहा है स्मार्टफ़ोन और टैबलेट कंप्यूटर की जगह ले रहे हैं.

जिस स्टोरेज के लिए आपको कंप्यूटर और लैपटॉप की ज़रूरत होती थी, उसका काम क्लाउड स्टोरेज से हो रहा है.

नेटफ़्लिक्स पर आप वो सभी फ़िल्में देख सकते हैं जिसके लिए आपको सीडी खरीदनी पड़ती थी. रोकू जैसी सर्विस पर आप दर्जनों चैनल ऑनलाइन सब्सक्राइब कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

लैपटॉप पर अब भी यक़ीन करने वाले उसके स्टोरेज के दीवाने हैं. कई उसकी स्क्रीन साइज़ की आदत नहीं बदल पाए हैं.

बढ़िया लैपटॉप पर आपको 250 गीगाबाइट (जीबी) स्टोरेज मिल जाएगी जबकि बढ़िया टैबलेट में केवल 64 जीबी.

इमेज कॉपीरइट AFP

जो नए टैबलेट माइक्रोसॉफ्ट ने लॉन्च किए हैं उनके लिए कोशिश की जा रही है कि बेहतर स्टोरेज सुविधा दी जाए.

इसमें 256 गीगाबाइट स्टोरेज दिया गया है. इसे देखकर अब टैबलेट के लिए भी लैपटॉप और डेस्कटॉप कंप्यूटर से टक्कर लेना संभव हो गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार