अंधाधुंध ऐप डाउनलोड करने के ये हैं ख़तरे

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

जब भी कोई ऐप डाउनलोड किया जाता है तो आपके स्मार्टफोन से वो कई जानकारियों की तलाश में रहता है.

इस जानकारी तक पहुंचने के लिए वो आपसे इजाज़त मांगता है और आप उसकी इजाज़त दे देते हैं.

ऐसा शायद कभी नहीं हुआ होगा कि परमिशन लिस्ट देखकर आपने ऐप को डाउनलोड नहीं करने के बारे में सोचा होगा.

ऐप के बारे में बिना कुछ जानकारी के डाउनलोड करना ख़तरनाक हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऐप और मोबाइल कॉमर्स कंपनियों ने इस पूरी प्रक्रिया में अपने लिए बिज़नेस का मौका ढूंढ निकाला है.

एक बार जब आप ख़रीदारी करने की तैयारी करते हैं तो आपका ईमेल, मोबाइल ई-कॉमर्स कंपनी के पास होता है.

जब आपकी ख़रीदारी पूरी हो जाती है तो क्रेडिट या डेबिट कार्ड के बारे में भी जानकारी ई-कॉमर्स कंपनी के पास होती है.

इसीलिए उन्हें आप पर नज़र रखने में और आपकी पसंद समझने में आसानी होती है.

उसी तरह ऐप को भी जब आप डाउनलोड करते हैं तो आपका फ़ोन नंबर, ईमेल और अक्सर आपके फ़ोन में सभी नंबरों के बारे में उसके पास जानकारी होती है.

इमेज कॉपीरइट FLIPCART.COM

अगर आपने किसी भी वेबसाइट के ऐप को डाउनलोड कर लिया है तो उस ऐप को स्मार्टफोन से जानकारी लेने की इजाज़त ज़रूर दी होगी.

जो भी एसएमएस आपके स्मार्टफोन पर आता है ऐप उसको पढ़ सकता है. तो अगर आपने फ्लिपकार्ट के ऐप को डाउनलोड किया है और कभी अमेज़न से सामान खरीदा है तो फ्लिपकार्ट तक उसकी खबर ज़रूर पहुंच जायेगी.

जब भी आप अपने स्मार्टफोन या टैबलेट पर कुछ खरीदने के लिए ढूंढ रहे होते हैं तो एक विशेष सॉफ्टवेयर आपकी पसंद पर पैनी नज़र रखता है.

आपकी डिवाइस के इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस से वेबसाइट को आपके पहले की पसंदों के बारे में भी पता होता है. और उस जानकारी के हिसाब से वेबसाइट आपको वैसे ही सामान दिखाता है.

अगर आपके बैंक से जुड़े एसएमएस भी उसी स्मार्टफोन पर आते हैं तो ऐप के पास ये भी जानकारी पहुंच सकती है कि आपके बैंक में कितने पैसे हैं.

इमेज कॉपीरइट

चूंकि ये सभी ऐप आपके बारे में जानकारी इकट्ठा करते रहते हैं इसलिए थोड़े दिन में उन्हें ये भी पता लग जाएगा कि बैंक में हर महीने आपके कितने पैसे आते हैं और, अक्सर, कितने पैसे आपके बैंक में रहते हैं.

इसलिए ऐप को, चाहे वो बैंक का हो या किसी ई-कॉमर्स वेबसाइट का, आपकी प्रोफ़ाइल तैयार करने में मदद मिलती है.

एक बार ये प्रोफ़ाइल तैयार हो गया उसके बाद आपके बारे में और जानकारी इकट्ठा करना बहुत आसान हो जाता है.

ऐसा होने के बाद ई-कॉमर्स कंपनियां या ऐप आपके प्रोफाइल को बहुत अच्छे से जानने लगती हैं. और फिर पता नहीं आपका प्रोफाइल कहां-कहां जा सकता है.

लेकिन सभी ऐप को डाउनलोड करना कितना खतरनाक हो सकता है वो यहां पढ़ सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार