विकिपीडिया पर कितना भरोसा कर सकते हैं?

  • 23 मई 2016
इमेज कॉपीरइट Getty

विकिपीडिया! जब भी ऑनलाइन जानकारी ढूंढ़नी हो, तो विकिपीडिया पर जाकर कई तरह की जानकारी हाथ लग जाती है.

लेकिन कई बार विकिपीडिया पर मिली जानकारी पर पूरी तरह से भरोसा नहीं किया जा सकता है क्योंकि विकिपीडिया के पेज को कोई भी एडिट कर सकता है और जानकारी डाल सकता है.

कई बार इस एडिटिंग को ऑनलाइन रोबोट या बॉट से भी किया जाता है. इसलिए, अगर आप दफ़्तर का कोई काम कर रहे हैं, तो पूरी तरह से विकिपीडिया पर निर्भर नहीं करना बेहतर होगा.

लेकिन विकिपीडिया पर सभी कुछ जो लिखा ही उसके बारे में ऐसा नहीं कह सकते हैं. अगर विकिपीडिया के किसी भी पेज पर आपको ऐसा हरे रंग का क्रॉस दिखाई देता है, तो उस पर ज़्यादा भरोसा किया जा सकता है. इसकी जानकारी को ऐसी जगहों से लिया जाता है, जो विश्वसनीय मानी जाती हैं. सिर्फ ऐसे ही लेख पर आपको ये हरा क्रॉस मिलेगा.

कभी कभी विकिपीडिया पर आपको ऐसे भी पेज मिलेंगे जहां एक स्टार बना होता है. इन्हें विकिपीडिया के सबसे बढ़िया पेजिस में माना जाता है. इनकी एडिटिंग में काफी समय लगता है और किसी भी आम पेज के मुक़ाबले जब आप इन्हें पढ़ेंगे तो फ़र्क साफ़ दिखाई देगा.

इमेज कॉपीरइट Getty

विकिपीडिया पर जानकारी लेते समय एक और परेशानी हो सकती है. कई वेबसाइट और अख़बार विकिपीडिया से जानकारी लेते हैँ और फिर वही जानकारी आपको वापस विकिपीडिया पर मिल जाती है. ऐसा अक्सर अनजाने में ही होता है.

लेकिन अगर आप जानकारी के लिए विकिपीडिया का फिर भी इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो किसी भी लेख के अंत में साइटेशन ज़रूर देखिये. साइटेशन से आपको ये पता चलता है कि जानकारी का स्रोत क्या है. विकिपीडिया पर कोई भी जानकारी जिसकी विश्वसनीयता पर सवाल उठाया जा सकता है, उसके बारे में साइटेशन ज़रूरी है.

विकिपीडिया पर आप हिस्ट्री या रिवीज़न के पेज को भी देख सकते हैँ. कभी कभी आप किसी भी जानकारी में आ रहे बदलाव को भी देख सकते हैँ. उसके लिए यहां पढ़ सकते हैं.

विकिपीडिया पर दुनिया भर की 293 भाषाओँ में जानकारी के लिए इनसाइक्लोपीडिया तैयार किया जा चुका है. ये दुनिया का सबसे बड़ा इनसाइक्लोपीडिया है.

अगर आप चाहें तो हिंदी के बारे में भी विकिपीडिया से जानकारी ले सकते हैँ. बस इस पेज पर जाकर अपना काम शुरू कर दीजिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार