जीमेल वायरस या फ़र्ज़ी ईमेल से ऐसे बचें

  • 4 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Google

जीमेल दुनिया की सबसे पसंदीदा ईमेल सर्विस है. लेकिन परेशानी ये है कि हैकरों की भी नज़रें ऐसी ईमेल सर्विस पर होती हैं, क्योंकि डेस्कटॉप के अलावा लोग इसे सवा सौ करोड़ एंड्राइड स्मार्टफ़ोन पर भी इस्तेमाल करते हैं.

मोबाइल और डेस्कटॉप पर एंटी-वायरस डाउनलोड करना, पासवर्ड वाला वाई फाई इस्तेमाल करना और दूसरे ऐप की मदद से आप स्मार्टफ़ोन और जीमेल को ज़रूर सुरक्षित रख सकते हैं.

लेकिन इसकी सेटिंग में बदलाव करके भी बहुत आसानी से जीमेल अकाउंट को ऐसे स्पैम और वायरस से सुरक्षित रखा जा सकता है.

जीमेल पर एक फीचर होता है जहां इनबॉक्स में सभी ईमेल को एक नाम से लेबल कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट

इनबॉक्स में किसी ऐसे ईमेल से संदेश आता है जिसपर आपको शक है, तो उसके बारे में पता लगाया जा सकता है. ईमेल पर लॉग इन करने के बाद जो गियर वाला आइकॉन दिखता है उस पर क्लिक कर दीजिए. स्क्रीन पर कई विकल्प होंगे जिनमें एक होगा 'सेटिंग' का.

उस पर क्लिक करने के बाद स्क्रीन पर एक नया विंडो खुल जाएगा. वहां पर आपको 'लैब्स' चुनना पड़ेगा. जो लोग आपको हमेशा ईमेल भेजते हैं उनके ईमेल के साथ एक आइकॉन आपके इनबॉक्स में दिख सकता है.

अगर आप पहला विकल्प चुनें, तो वहां पर 'ऑथेंटिकेशन आइकॉन फॉर वेरिफिाइड यूज़र्स' लिखा होगा. उसके बारे में आप यहां पढ़ सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इसका मतलब यह है कि जो भी जान पहचान वालों के ईमेल हैं, अब आपको दूसरों से अलग दिखेंगे.

एक बार आपने इस पहले विकल्प को चुन कर सेटिंग को सेव कर लिया तो जो भी आपके जान-पहचान के लोगों से ईमेल आएंगे, उनके ईमेल के साथ एक चाबी-नुमा आइकॉन दिखाई देगा.

इस तरह आप बाक़ी के ईमेल के बारे में सतर्क हो जाएंगे और उन्हें ज़रा ग़ौर से देखेंगे और सुरक्षित लगेगा, तभी क्लिक करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार