नासा की बड़ी सफलता- जूनो बृहस्पति की कक्षा में

  • 5 जुलाई 2016
नासा का उपग्रह जूनो. इमेज कॉपीरइट NASA

अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का जूनो नाम का उपग्रह पांच साल के सफर के बाद जूपिटर यानी बृहस्पति की कक्षा में सफलतापूर्वक दाख़िल हो गया है.

जूनो से इसका रेडियो संदेश मिलते ही नासा के कैलिफ़ोर्निया के पासाडेना स्थित मिशन कंट्रोल रूम में ख़ुशियों मनाई जा रही हैं.

ग़ौरतलब है कि से संदेश 80 करोड़ किलोमीटर की दूरी से पृथ्वी पर मिला.

जूनो के मिशन कंट्रोल ने घोषणा की, '''रोगर जूनो, जूपिटर पर आपका स्वागत है.''

जूनो अगले क़रीब डेढ़ साल तक बृहस्पति के चक्कर लगाएगा. इस दौरान जूनो यह पता लगाएगा कि बृहस्पति बना कैसे था.

अपना काम पूरा करने के बाद जूनो बृहस्पति के वातावरण में दाखिल होकर ख़ुद को ख़त्म कर लेगा.

नासा ने जूनो मिशन को 2011 में रवाना किया था. इस मिशन पर क़रीब एक अरब डॉलर की लागत आई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार