ईमेल को हैकरों से कैसे सुरक्षित रखें

  • 15 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अपने ईमेल को हैकरों से कैसे सुरक्षित रखने के लिए पांच आदतें सबको जरूर अपनानी चाहिए.

ईमेल एड्रेस किसी की भी ऑनलाइन दुनिया का सबसे अहम हिस्सा होता है.

सभी जानकारी, पासवर्ड, बैंक के ट्रांसक्शन और स्टेटमेंट, क्रेडिट कार्ड की जानकारी और सोशल मीडिया नोटिफिकेशन सभी ईमेल पर ही होते हैं. इन्हें एक दूसरे से अलग करके रखना बहुत ज़रूरी है क्योंकि अगर किसी ने इस ईमेल को हैक कर लिए तो आपके लिए बहुत परेशानी हो जायेगी.

इसलिए ईमेल पर काम करते समय सुरक्षा की कुछ बातों का ज़रूर ध्यान रखना चाहिए. अगर इन आदतों को आप अपना सकेंगे तो अपने लिए ऑनलाइन सुरक्षा बेहतर कर सकेंगे.

इमेज कॉपीरइट THINSTOCK

हमेशा एक से ज़्यादा ईमेल अकाउंट रखने चाहिए. इससे आप अलग काम के लिए अलग ईमेल रख पाएंगे. कभी भी अपने सबसे पर्सनल ईमेल को हर जगह नहीं दीजिये. ये सिर्फ चुने हुए दोस्तों के पास काम के लिए रहना चाहिए.

अगर पर्सनल ईमेल पर अनचाहे ढेर सारे ईमेल होंगे तो उन्हें सम्भालना मुश्किल हो जाएगा, इसलिये भी उन्हें अलग रखना ज़रूरी है. कहीं ये नोटिफिकेशन किसी गलत हाथ में पड़ गया तो हैकर एक ही पासवर्ड लगा कर सभी अकाउंट चेक कर सकता है. अगर वो सोशल मीडिया तक पहुंच गया तो किसी के लिए काफी परेशानी हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जैसे ही हैकर किसी के भी ईमेल को एक्सेस करते हैं, सबसे पहले वो दूसरे ईमेल और सोशल मीडिया पर लॉग इन करने की कोशिश करते हैं. अगर इसमें उन्हें सफलता मिलती है तो जिसका भी अकाउंट है उसे परेशानी होगी और वो पैसे देने को जल्दी तैयार हो जाएगा, इसीलिए अलग अलग ईमेल का एक ही पासवर्ड कभी नहीं रखना चाहिए.

किसी भी दो लॉग इन के लिए भी एक ही पासवर्ड कभी नहीं होनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

सुरक्षा के लिहाज़ से ये खतरनाक हो सकता है.

ऑनलाइन दुनिया में ऐसी गलतियां हैकरों के लिए वरदान साबित होती हैं.

ईमेल में आने वाले लिंक को कभी जल्दी क्लिक नहीं करना चाहिए.

कई बार दोस्त लोग अनजाने में ऐसे लिंक भी भेज देते हैं और दोस्त से आये ईमेल पर भरोसा करके लिंक पर क्लिक कर सकते हैं. जब तक ये लिंक सिक्योर नहीं होगा तब तक उस पर विश्वास करना बेवकूफी हो सकती है.

इमेज कॉपीरइट PHOTODISC

ऐसे ईमेल किसी भी बहाने से आपके ईमेल में पहुंच सकते हैं. ये किसी जानी मानी कंपनी के सामान का सेल हो सकता है या लॉटरी जीतने की खबर.

ऐसे लिंक को कॉपी करके ब्राउज़र में पेस्ट करना, अगर ज़रूरी है, बेहतर होगा.

जैसे लिंक से खतरा होता है वैसे ही किसी भी अटैचमेंट के खोलने से भी खतरा हो सकता है.

ऐसे अटैचमेंट में कभी कभी ऐसे फाइल भी डाउनलोड हो जाते हैं जो आपके कंप्यूटर पर चुप चाप कहीं स्टोर हो जाएंगे और आपके बारे में जानकारी देते रहेंगे.

हो सकता है आपके ईमेल के लॉग इन और पासवर्ड की भी जानकारी हो. जानने वाले लोगों के ही अटैचमेंट को अगर आप डाउनलोड करें तो आपके लिए वो सुरक्षित रहेगा.

पब्लिक वाई फाई का अगर इस्तेमाल कर रहे हैं तो वो बहुत खतरनाक हो सकता है. बड़े या छोटे शहर में ऑफिस जाने वाले सभी लोग डेटा सर्विस का इस्तेमाल करते ही हैं.

अगर बहुत ज़रूरी नहीं है तो अपने स्मार्टफोन पर पब्लिक वाई फाई इस्तेमाल करके कोई फाइल डाउनलोड नहीं करनी चाहिए.

पब्लिक वाई फाई से अगर कनेक्ट करना इतना ज़रूरी है तो अपने पर्सनल ईमेल को लॉग आउट करके उसे इस्तेमाल कीजिये. लेकिन अगर चंद मिनट डेटा सर्विस इस्तेमाल नहीं करने से सुरक्षा बनी रहती है तो वो बेहतर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार