BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 03 मई, 2004 को 16:02 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
असली दाँत गिरकर फिर मिल सकते हैं
 
भरे दाँतों की मुस्कुराहट
दाँतों वाली मुस्कुराहट कुछ अलग ही होती है
विज्ञान के चमत्कार हमें अक्सर देखने और सुनने को मिलते रहते हैं और समय बीतने के साथ ये चमत्कार हमारे जीवन का न सिर्फ़ एक हिस्सा बन जाते हैं बल्कि ये सामान्य से भी नज़र आने लगते हैं.

उम्र ढलने के साथ ही जिस तरह बाल सफ़ेद होने लगते हैं उसी तरह से दाँत खोने की फ़िक्र भी बढ़ती जाती है और एक वक़्त ऐसा आता है कि हल्की-फुल्की चीज़ें भी खाने के लिए नक़ली दाँतों का सहारा लेना पड़ता है.

लेकिन ज़रा सोचें कि नक़ली दाँतों के सहारा लेने वाले किसी व्यक्ति के अगर असली दाँत आ जाएं तो होगा ना यह एक नया चमत्कार.

विज्ञान ने यह उम्मीद जगाई है और यह संभव हो सकता है हमारे शरीर की स्टेम सेल्स कोशिकाओं के ज़रिए.

स्टेम सेल्स हमारे शरीर की उन बुनियादी कोशिकाओं को कहा जाता है, जिनसे वैज्ञानिक तकनीक के ज़रिए शरीर के किसी भी अंग को विकसित किया जा सकता है.

अब स्टेम सेल्स से मनुष्य के असली दाँत विकसित करने के लिए इसी वैज्ञानिक तकनीक की आज़माइश की जा रही है.

लंदन के किंग्स कॉलिज के वैज्ञानिकों को इस स्टेम सेल्स परियोजना पर काम करने के लिए लगभग दस लाख डॉलर की धनराशि दी गई है.

तकनीक

होगा ये कि इस वैज्ञानिक पद्धति के ज़रिए स्टेम सेल्स को शरीर में विभिन्न हिस्सों की ज़रूरत के अनुरूप ढाला जाएगा.

दाँत-असली या नक़ली?
दाँत एक बार गिरे तो . . .

जब एक बार इन स्टेम सेल्स को दाँतों के लिए विकसित कर लिया जाएगा तब इन्हें व्यक्ति के जबड़े में मसूड़े के नीचे उस स्थान पर प्रतिरोपित कर दिया जाएगा जहाँ से दाँत ग़ायब हो चुका हो.

समझा जाता है कि इन स्टेम सेल्स को जबड़े में प्रतिरोपित करने के बाद पूरा दाँत विकसित होने में क़रीब दो महीने का समय लगेगा.

इसके लिए वैज्ञानिकों ने चूहों पर पहले ही परीक्षण शुरू कर दिए हैं और किंग्स कॉलिज, लंदन के वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि मानव पर भी ऐसे परीक्षण दो साल में शुरू हो जाएँगे.

ब्रिटेन में औसतन पचास वर्ष की उम्र के लोगों के बारह दाँत गिर जाते हैं. भारत में भी कुछ ऐसा ही हाल है बल्कि ग्रामीण इलाक़ों में तो यह समस्या बहुत गंभीर है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि कृत्रिम दाँतों की बजाय स्टेम सेल्स तकनीक से विकसित किए गए असली दाँत मसूड़ों और अन्य दाँतों को कहीं अधिक स्वस्थ बनाए रखने में भी सहायक होंगे.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
 
 
इंटरनेट लिंक्स
 
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
 
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>