BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
रविवार, 24 दिसंबर, 2006 को 13:57 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
दिमाग़ी चोट में फ़ायदेमंद है शराब
 
करीब 1200 लोगों के सर की चोटों का अध्ययन किया गया
एक अध्ययन में पता चला है कि संतुलित मात्रा में शराब पीने से सर पर लगने वाली चोटों के प्रभाव से दिमाग़ का बचाव होता है.

टोरंटो विश्वविद्यालय की एक टीम ने अपने अध्ययन में पाया कि संतुलित मात्रा में शराब पीने वाले लोगों के सर पर चोट लगने से मौत होने की संभावना 24 प्रतिशत तक कम हो जाती है.

अध्ययन करने वाली टीम का कहना है कि एक दिन ऐसा भी आ सकता है कि सर पर चोट लगे किसी आदमी के आपातकालीन उपचार के लिए शराब का इस्तेमाल किया जाए.

आर्काइव्स ऑफ़ सर्जरी जर्नल में छपे अध्ययन में कहा गया है कि इसका मतलब यह नहीं कि सभी लोग शराब पीना शुरू कर दें.

दिमाग़ पर कोई गंभीर चोट सिर्फ़ दुर्घटना की वज़ह से नही लगती बल्कि उसके कुछ और कारण भी होते हैं.

दुर्घटना होने के अगले कुछ घंटों में शरीर को बचाने के लिए अपने आप बचाव की एक प्रक्रिया शुरू हो जाती है जिससे दिमाग़ की कोशिकाओं में सूजन आ जाती है और वो नष्ट होने लगती हैं. इसे 'द्वितीय मस्तिष्क आघात' कहते हैं.

कुछ मामलों में इसी वजह से मरीज़ की मौत हो जाती है या वह अपंग हो जाता है.

शोधकर्ताओं का मानना है कि कम मात्रा में शराब पीने से द्वितीय मस्तिष्क आघात के प्रभाव को कम किया जा सकता है.

अध्ययन

अध्ययन में अस्पताल में सर पर चोट खाए 1158 मरीज़ों के रिकार्ड का अध्ययन किया गया. सर पर चोट खाए सभी 1158 लोगों में से 418 लोगों के ख़ून में शराब पाई गई.

 शराब पीने वाले और शराब न पीने वाले मरीज़ों में एक जैसी चोटें होने पर शराब पीने वाले मरीज़ की हालत में सुधार जल्दी होता है
 
डॉ विल टॉनेंड, औषधि सलाहकार

इन लोगों की अन्य मरीज़ों से तुलना में पाया गया कि जो लोग कम या संतुलित मात्रा में शराब पीते थे उनकी मौत की दर शराब न पीने वालों से 24 प्रतिशत कम थी.

औषधि सलाहकार डॉ. विल टॉनेंड ने कहा, "शराब पीने वाले और शराब न पीने वाले मरीज़ों में एक जैसी चोटें होने पर शराब पीने वाले मरीज़ की हालत में सुधार जल्दी होता है."

अधिक शराब पीने वालों की मौत की दर तो शराब न पीने वालों से 73 फ़ीसद ज़्यादा थी.

परिणामों की और अधिक पुष्टि तब हुई जब अध्ययनकर्ताओं ने यही सर्वेक्षण सीने और पेट में चोट खाए लोगों पर किया और उन्हें शराब की मात्रा और मरीज़ों की मौत के बीच कोई संबंध नहीं मिला.

अध्ययन को जानवरों पर भी सही पाया गया.

ब्रैडफ़ोर्ड रॉयल इन्फ़रमरी में सलाहकार डॉ टोनी शेंटन का कहना है, "अधिक शराब पीने से दुर्घटना की संभावना बढ़ जाती है और दुर्घटना गंभीर भी हो सकती है."

शोधकर्ताओं ने सुझाव दिया कि सर में चोट लगे लोगों की हालत में सुधार लाने के लिए शराब की ड्रिप का इस्तेमाल किया जा सकता है.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
बाल से पकड़ा जाएगा शराबी
12 फ़रवरी, 2004 | विज्ञान
शराब पर प्रतिबंध का समर्थन
08 सितंबर, 2004 | विज्ञान
'हरी चाय से दिल की सेहत अच्छी'
13 सितंबर, 2006 | विज्ञान
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>