BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 15 जनवरी, 2009 को 09:45 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
'अधिक कॉफ़ी पीने से मतिभ्रम'
 
कॉफ़ी
कॉफ़ी पीने से शरीर कोर्टीसोल नामक हॉर्मोन छोड़ता है
अगर आप बुहत अधिक कॉफ़ी पीने के आदी है तो सावधान हो जाएं! ब्रिटेन में एक अध्ययन से संकेत मिले हैं कि अधिक कॉफ़ी पीने से भूत दिखाई दे सकते हैं या डरावनी आवाज़े सुनना शुरु हो सकती हैं.

अध्ययन में यह भी कहा गया है कि जो लोग दिनभर में सात कप कॉफ़ी पीते हैं उनमें एक बार कॉफ़ी पीने वाले की तुलना में ऐसा होने की संभावना तीन गुना ज़्यादा है.

यह अध्ययन ब्रिटेन की डरहम विश्वविद्यालय की एक टीम ने किया है.

अध्ययन को प्रकाशित करने वाले जरनल के अनुसार 200 छात्रों पर ये अध्ययन किया गया और उनसे कॉफ़ी पीने के बारे में विभिन्न सवाल किए गए.

अध्ययन की ज़रूरत

हालाँकि अध्ययन टीम का कहना है कि अधिक कॉफ़ी लोगों के इन अनुभवों में संबंध पूरी तरह से साबित नहीं हुआ है.

 ऐसे अनुभवों के विभिन्न कारणों को जानने की तरफ़ यह पहला क़दम है
 
अध्ययन टीम के अध्यक्ष साइमन जोन्स

अध्ययन टीम ने ज़ोर देकर कहा है कि मतिभ्रम होने की जो बात सामने आई है वो दिमाग़ी बीमारी का निश्चित लक्षण नहीं है और अध्ययन में शामिल लगभग तीन प्रतिशत लोग पहले भी डरावनी आवाज़े सुनते रहे हैं.

अध्ययन टीम के अध्यक्ष साइमन जॉनस का कहना है, "इन अनुभवों के विभिन्न कारणों को जानने की तरफ़ यह पहला क़दम है."

ग़ौरतलब है कि जब व्यक्ति दबाव में होता है तो शरीर कॉर्टीसोल नामक हॉर्मोन छोड़ता है और कॉफ़ी पीने के बाद इसकी मात्रा अधिक होती है.

अध्ययन टीम के अनुसार लोगों ने भाँति-भाँति के सपने देखे, जैसे आवाज़े सुनना, वो चीज़े देखना जो वहाँ मौजूद नहीं थीं और मुर्दों को देखना.

हालाँकि अध्ययन टीम के एक अन्य सदस्य जेम्स का कहना था कि मतिभ्रम और कैफ़ीन के संबंध को स्थापित करने के लिए और अध्ययन की आवश्यकता है.

उनका का कहना था, "ऐसा भी हो सकता है कि तनावग्रस्त लोग अधिक कॉफ़ी पीते हों."

जेम्स के अनुसार, "अगर कैफ़ीन किसी तरह मतिभ्रम के लिए ज़िम्मेदार हो तो भी मतिभ्रम के दूसरे कारणों के मुक़ाबले इसका असर कम होगा."

अब अध्ययन टीम इस बात की जाँच करने की योजना बना रहा है कि क्या खाने पीने की दूसरी चीज़ें जैसे चीनी और घी भी ऐसे अनुभवों के लिए ज़िम्मेदार तो नहीं हैं?

ग़ौरतलब है कि हाल में हुए एक अध्ययन के अनुसार अधिक कैफ़ीन के सेवन से महिलाओं में गर्भपात की बात सामने आई है.

 
 
शुक्राणु कॉफ़ी कहाँ-कहाँ कारगर
ब्राज़ील के वैज्ञानिकों के मुताबिक़ कॉफ़ी से शुक्राणुओं की सक्रियता बढ़ती है.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
जीन में बसी है खान-पान की रूचि?
30 अक्तूबर, 2007 | विज्ञान
चाय में चीनी या नमक, भला क्यों?
21 दिसंबर, 2003 | विज्ञान
कसरत के साथ कॉफ़ी भली
05 अगस्त, 2003 | विज्ञान
चाय पीने से बीमारी दूर
22 अप्रैल, 2003 | विज्ञान
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>