दाना मांझी को बहरीन से आई मदद

दाना मांझी

इमेज स्रोत, OTV

इमेज कैप्शन,

दाना मांझी

अपनी पत्नी का शव कंधे पर उठा कर 12 किलोमीटर पैदल चलने वाले ओड़िशा के आदिवासी दाना मांझी को बहरीन से आर्थिक मदद मिली है.

बहरीन के प्रधानमंत्री ख़लीफ़ा बिन सलमान अल-ख़लीफ़ा ने अगस्त में दाना मांझी की कहानी पढ़ी थी. इसे पढ़ने के बाद वे दुखी हो गए थे और उनके दफ़्तर ने भारत स्थित बहरीन दूतावास से संपर्क कर उन्हें कुछ धनराशि दे कर मदद की थी.

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें.

शुक्रवार को 45 साल के दाना मांझी दिल्ली स्थित बहरीन दूतावास आए. वहां उन्हें 8.9 लाख रूपये का चेक भेंट किया गया.

इमेज स्रोत, AFP

इमेज कैप्शन,

बहरीन के प्रधानमंत्री शेख़ ख़लीफ़ा बिन सलमान अल-ख़लीफ़ा

वो और उनकी छोटी बेटी चौली चेक ले कर एयर इंडिया की उड़ान से ओड़िशा वापिस गए.

उन्होंने कहा, "मैं खुश हूं. मैं अपनी तीन बच्चियों की शिक्षा के लिए यह पैसा बैंक में रखूंगा. मुझे उम्मीद हैं कि उन्हें अच्छी शिक्षा मिले और नौकरी मिले."

24 अगस्त को दाना मांझी की पत्नी अमांग की भवानीपटना के एक अस्पताल में मौत हो गई थी, जहां वे टीबी के इलाज के लिए भर्ती थीं.

इमेज स्रोत, OTV

इमेज कैप्शन,

दाना मांझी

अस्पताल ने कथित तौर पर शव ले जाने के लिए एंबुलेंस मुहैया कराने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद वे कंधे पर अपनी पत्नी का शव उठा कर पैदल ही गांव की ओर निकल पड़े थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)