'जो भी बोले, सवाल करे, न्याय माँगे वो देशद्रोही: अरविंद केजरीवाल

  • 31 अक्तूबर 2016
इमेज कॉपीरइट MP Police

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट में भोपाल में हुए एनकाउंटर पर सवाल उठाए हैं.

सोमवार को मध्य प्रदेश पुलिस ने प्रतिबंधित संगठन सिमी के आठ विचाराधीन क़ैदियों के जेल से फ़रार होने और फिर बाद में एनकाउंटर में उनकी मौत का दावा किया है.

मध्य प्रदेश पुलिस का ये दावा कई तरह के सवाल में घिर गया है.

सोमवार देर शाम अरविंद केजरीवाल ने इस एनकाउंटर पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने इस बारे में एक के बाद एक कई ट्वीट किए हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

ट्वीट में केजरीवाल ने लिखा, "ये मोदी राज है. फ़र्ज़ी एनकाउंटर. फ़र्ज़ी मामले, रोहित वेमुला, केजी बंसल, ग़ायब नजीब, दलितों पर अत्याचार, एबीवीपी की गुंडागर्दी, आरएसएस, गौरक्षक."

एक और ट्वीट में अरविंद केजरीवाल ने भोपाल के एक स्थानीय पत्रकार का एनकाउंटर पर सवाल उठाता फ़ेसबुक पोस्ट भी शेयर किया है.

पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी का एक ट्वीट भी रिट्वीट किया है उन्होंने लिखा है, "सिमी के आतंकवादी बताए जा रहे विचाराधीन क़ैदियों के एनकाउंटर की कहानी उतनी ही यक़ीन करने लायक है जितना गुजरात का विकास मॉडल."

केजरीवाल ने पत्रकार राजदीप सरदेसाई को भी रिट्वीट किया.

राजदीप ने लिखा है, "क्या भोपाल एनकाउंटर पर सवाल उठाना किसी को राष्ट्रविरोधी बना देता है? मैं तो समझता हूं कि सवाल उठाना हमारे महान लोकतंत्र की ख़ूबी है. नहीं?"

केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी नेता अंकित लाल का भी एक ट्वीट रीट्वीट किया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इसमें उन्होंने लिखा है, "तो अब विचाराधीन क़ैदियों का क़त्ल करना जायज़ है? न सुनवाई, न मुक़दमा, न जज न सज़ा. गुजरात मॉडल मध्यप्रदेश पहुँच गया है."

अरविंद केजरीवाल ने शिरीष कुंदेर का मध्यप्रेदश एनकाउंटर पर तंज करता ट्वीट भी रिट्वीट किया है.

कुंदेर ने लिखा है, "मुख्य न्यायाधीश ठाकुर ने जजों की कमी की शिकायत की. मध्य प्रदेश पुलिस ने तुरंत आठ लंबित मामले निपटा दिए. मध्य प्रदेश पुलिस की इस कार्रवाई पर गर्व है."

इमेज कॉपीरइट MP Police
Image caption कथित मुठभेड़ में मारे गए आठ विचाराधीन क़ैदी

अरविंद केजरीवाल ने आप नेता कुमार विश्वास का एक ट्वीट भी शेयर किया. इसमें उन्होंने लिखा है, "जिस की सत्ता है वो "देश" है, बाक़ी जो भी बोले-सवाल करे,न्याय माँगे वो "देशद्रोही" है. जो इस नई लोकतांत्रिक व्याख्या से सहमत न हो वो पाक चला जाए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए