माल्या की 'लोन माफ़ी' और नाराज़ जनता

इमेज कॉपीरइट Reuters

'ग़रीब साफ़ अमीर के लोन माफ़', ट्विटर पर ये हैशटैग ख़ासा ट्रेंड कर रहा है.

मीडिया में आ रही कई रिपोर्टों के मुताबिक़ उद्योगपति विजय माल्या का सात हज़ार करोड़ रुपए का बैंक लोन माफ़ कर दिया गया है.

इस पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को संसद में सफ़ाई देते हुए कहा था, "लोन माफ़ नहीं किया गया है. हम अब भी रिकवरी के प्रयास कर रहे हैं. बस फ़र्क ये है कि आधिकारिक प्रविष्टि में इसे परफ़ार्मिंग असेट से नॉन परफॉर्मिंग असेट में बदल दिया गया है."

लेकिन लगता है सोशल मीडिया पर लोग अरुण जेटली के इस तर्क से सहमत नहीं हुए.

रविंदर नाम के ट्विटर यूज़र लिखते हैं, "प्यारे स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया. लाइन में लग कर विजय माल्या का लोन चुकता करने के लिए धन्यवाद."

इमेज कॉपीरइट Twitter

अभय तोमर लिखते हैं, "अपने गरीब मित्रों अंबानी, अडानी, माल्या का कर माफ़ करने वालों, हमारे अमीर मित्र किसान का भी कर्ज माफ़ करो."

आपका रऊफ़ नाम के ट्विटर हैंडल का ट्वीट कुछ यूं रहा, "लोन के पैसों का जनता करे भुगतान, उद्योगपतियों के पैसे सरकार करे माफ़"

परवेज़ ख़ान फ़रमाते हैं, " आम जनता को लाइन में लगा कर विजय माल्या जैसे बड़े कर्ज़दारों का लोन माफ़ करके स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने जो दरियादिली का सबूत दिया है उसको सलाम."

(बीबीसी हिन्दी के के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)