'बोले मनमोहन, लड्डू बँटवाओ कांग्रेसियों'

मनमोहन सिंह

इमेज स्रोत, AFP

पूर्व प्रधानमंत्री और राज्यसभा में कांग्रेस के सांसद मनमोहन सिंह ने नोटबंदी के मोदी सरकार के फ़ैसले पर कई सवाल उठाए हैं. उन्होंने इसे क़ानूनन चलाई जा रही व्यवस्थित लूट कहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी, जिसके बाद कुछ विपक्षी दलों ने इसका कड़ा विरोध किया था.

विपक्ष ने संसद में पीएम के बयान की मांग की थी. जब मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे, तो भाजपा समेत कई विपक्षी दल उन्हें 'मौन-मोहन सिंह' कहते थे.

इमेज स्रोत, TWITTER

लेकिन नरेंद्र मोदी को भी कई मुद्दों पर चुप रहने के कारण विपक्ष की आलोचना झेलनी पड़ी है.

राज्यसभा में मनमोहन सिंह के भाषण के बाद सोशल मीडिया ख़ासकर ट्विटर पर #manmohansingh और #मनमोहन सिंह ट्रेंड करने लगा.

इमेज स्रोत, TWITTER

चिन्मय ने मनमोहन सिंह के बोलने पर लिखा है कि कांग्रेसियों को लड्डू भी बँटवाना चाहिए.

इमेज स्रोत, TWITTER

पीएम नरेंद्र मोदी का खुलकर समर्थन करने वाले अभिनेता अनुपम खेर ने लिखा है कि नोटबंदी के साइड इफ़ेक्ट - मनमोहन सिंह जी आज 10 मिनट तक बोले. जय हो.

उनके जवाब में आदिल अहमद शेख़ ने लिखा है- अनुपम खेर जी, मनमोहन सिंह में इतनी हिम्मत है कि कम से कम वे बोले तो, आपके भगवान मोदी मुँह छिपाकर क्यों भाग रहे हैं.

इमेज स्रोत, TWITTER

रवि किरण लिखते हैं कि मनमोहन सिंह बोल भी सकते हैं, मुझे अब भी इसका भरोसा नहीं हो रहा. बड़ा दिन.

चेतन चौहान लिखते हैं कि मनमोहन सिंह अर्थशास्त्र के महारथी हैं. 2014 में सत्ता संभालने के बाद नरेंद्र मोदी ने उनसे सलाह ली थी. क्या अब वे उन्हें सुनेंगे?

इमेज स्रोत, TWITTER

सैम ने लिखा है- मोदी को अब भी ये सीखने की ज़रूरत है कि प्रधानमंत्री को कैसे बोलना चाहिए, ये मनमोहन सिंह में नेचुरल है.