बकरे की कुर्बानी से रुकेंगे पाकिस्तान में हवाई हादसे?

  • 19 दिसंबर 2016
इमेज कॉपीरइट TWITTER

पाकिस्तानी मीडिया ने हवाई जहाज़ों को हादसों से बचाने के लिए वहां बकरे की कुर्बानी की ख़बरें छापी हैं और पीआईए सोशल मीडिया में लोगों के निशाने पर आ गया है.

पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) के विमान के उड़ने से पहले इस्लामाबाद एयरपोर्ट के रनवे पर बकरे की कुर्बानी की एक तस्वीर ने पाकिस्तान में सोशल मीडिया पर हंगामा मचाया हुआ है.

पीआईए के एक अधिकारी के हवाले से स्थानीय मीडिया में कहा गया है कि एटीआर उड़ानें शुरू करने जा रहा था और उससे पहले एक अधिकारी ने एक बकरे की क़ुर्बानी दी है. लेकिन अधिकारी ने ये भी कहा है कि प्रबंधन की ओर लिया गया फ़ैसला नहीं था.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption 7 दिसंबर को पाकिस्तान एयरलाइंस का ये विमान हादसे का शिकार हो गया था.

पीआईए के अधिकारियों ने रविवार को कम दूरी की उड़ान भरने वाले ट्विन-इंजन टर्बोप्रोप विमान के टेकऑफ़ से पहले रनवे पर एक बकरे की कुर्बानी दी.

पढ़ें- जुनैद जमशेद पीआईए के विमान में सफ़र कर रहे थे

पढ़ें- पीआईए के क्रैश हुए विमान के पायलट का एमरजेंसी कॉल

सात दिसंबर को एक विमान हादसे में 47 लोगों की मौत के बाद पिछले हफ़्ते पीआईए ने अपने सभी नौ एटीआर विमानों को उड़ाना बंद कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट @ImranKhanPTI

सुरक्षा उपायों पर ज़ोर देने के बजाय कुर्बानी का रास्ता अपनाने को लेकर पीआईए की आलोचना हो रही है.

पाकिस्तान तहरीक़-ए-इंसाफ़ के नेता इमरान ख़ान ने ट्विटर पर लिखा है, ''हैरत है कि हम इतनी गर्त में जा रहे हैं. पीआईए, दुनिया की शीर्ष विमान कंपनियों में गिनी जाती थी और अब वो अपने विमानों की सुरक्षा के लिए बकरों की कुर्बानी दे रहा है.''

इमेज कॉपीरइट @azizabadi

मुस्तफ़ा अज़ीज़ाबादी ने लिखा है, ''पीआईए विमानों की हालत सुधारने के बजाय, सरकार ने हर एटीआर उड़ान से पहले काले बकरे के सदक़े का हुक़्म दिया है.''

पाकिस्तान डिफ़ेंस ने अपने ट्विटर एकाउंट पर लिखा है, ''दुनिया को विमान सुरक्षा में सुधार का तरीका पीआईए से सीखना चाहिए. रनवे पर काले बकरे की कुर्बानी.''

शाहजहां ज़हरी ने लिखा है, ''काले जादू से निपटने के लिए हर पीआईए उड़ान से पहले काले बकरे की कुर्बानी. सुब्हान अल्लाह.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

इमेज कॉपीरइट AP

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे