सोशल: 'बूढ़ी मां का सियासी दुरुपयोग कर रहे हैं मोदीजी'

  • 20 फरवरी 2017
मोदी इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया है कि वो अपनी मां को साथ क्यों नहीं रखते.

उतर प्रदेश के फतेहपुर में विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान मोदी ने कहा था, "मेरी मां ज़िंदगी भर लकड़ी के चूल्हे पर खाना बनाती थी. उनका दर्द मैंने देखा और महसूस किया है."

मोदी के इस बयान पर केजरीवाल ने उन पर आरोप लगाया वो अपनी बूढ़ी मां का राजनीतिक दुरुपयोग करते हैं.

'मोदी जी विकास से श्मशान तक पहुंच गए'

सोशल मीडिया पर मोदी के इस बयान पर लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है.

'इमोशनल अत्याचार के लिए मां बड़ा हथियार'

आशीष यादव ने लिखा, "मोदीजी ने अपनी 90 साल की मां को लाइन में लगा दिया. अब यूपी को मां-बाप बोल रहे. लाइन में पहले लगा चुके, अब कहां ले जाओगे मोदी जी?"

सैम पंजवानी ने लिखा, "अरविंद सही कह रहे हैं. मोदी को अपनी मां का ख़याल रखना चाहिए और उनके लिए एक उदाहरण बनना चाहिए जो अपनी मां का ख़्याल नहीं रखते."

आईएमरायन ने लिखा, "जब मोदी हारने लगते हैं तो सहानुभूति पाने के लिए अपनी मां, भारतीय सेना और धर्म को राजनीति में ले आते हैं."

रवीश सौरभ केजरीवाल से पूछते हैं, "पर्सनल हमले ना करें. मोदी को आपनी मां के साथ जो करना है करें. आपको चिंता क्यों हो रही है?"

सतीश लाल ने लिखा, "मोदी और उनकी मां को छोड़ दें. आप दिल्ली में चल रही टैक्सी की हड़ताल के बारे में कुछ करें."

इससे पहले नोटबंदी की घोषणा के बाद पीएम नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन मोदी रुपये बदलने के लिए बैंक पहुंची थीं. इस खबर को कुछ लोगों ने पीएम का हथकंडा बताया था.

फतेहपुर की रैली में मोदी ने समाजवादी पार्टी की सरकार पर जाति और धर्म के नाम पर भेदभाव करने का आरोप लगाया था जिसके बाद कई लोगों ने उनके इस बयान पर आपत्ति जताई थी.

उन्होंने कहा था, "सरकार क़ब्रिस्तान बनाती है तो श्मशान का भी ध्यान रखे."

रमज़ान ही नहीं, दिवाली में भी बिजली आए: मोदी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए