सीएम योगी को लेकर लालू और सुशील कुमार मोदी के बीच टि्वटर पर जंग

  • 19 मार्च 2017
लालू यादव इमेज कॉपीरइट PTI

उत्तर प्रदेश में शानदार जीत हो या फिर योगी आदित्यनाथ का शपथ ग्रहण समारोह, भाजपा के नेताओं की खुशी का ठिकाना नहीं है.

लेकिन बिहार में एक भाजपा नेता हैं जो चुनावी नतीजों और योगी की ताजपोशी के वक़्त खुशी का इज़हार करते वक़्त अपने सियासी विरोधी पर तंज़ कसते हैं और फिर सामने से भी जवाब आता है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

हम बात कर रहे हैं बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी की जो गाहे-बगाहे लालू पर निशाना साधते रहे हैं और आरजेडी के बॉस भी जवाब देने में पीछे नहीं रहते.

दोनों नेताओं के बीच ये जंग टि्वटर पर लड़ी जा रही है और एक-दूसरे पर हमला बोलने की हर कोशिश हो रही है.

11 मार्च को चुनावी नतीजे आए थे तो सुशील कुमार मोदी ने लालू को टैग करते हुए ट्वीट किया, ''क्या हाल हैं?''

इमेज कॉपीरइट Twitter

इसके जवाब में लालू ने लिखा, ''ठीक बा. देखा ना, बीजेपी ने तुम्हें यूपी में नहीं घुसने दिया तो फ़ायदा हुआ.''

बात आई-गई हो गई. लेकिन शनिवार को योगी आदित्यनाथ के भाजपा विधायक दल के नेता चुने जाने और अगला मुख्यमंत्री बनने पर मुहर लगने के बाद मोदी ने एक बार फिर चटखारा लिया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

एक बार फिर लालू को टैग करते हुए सुशील कुमार मोदी ने लिखा, ''योगी के (मुख्यमंत्री) बनने से लालू इतने सदमे में हैं कि क्या गाली दें समझ नहीं आ रहा है.''

लालू ने जवाबी हमला बोलने में ज़रा देर नहीं लगाई.

उन्होंने ट्वीट किया, ''तुम भी कान छिदवा लो, सिर छिलवा लो, भेष बदल लो, शायद तुम्हारा कुछ भला हो जाए. ज़्यादा दुखी मत होना, ई लोग तुम्हें शपथ ग्रहण में भी नहीं बुलाया.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

सुशील मोदी ने इसका कोई सीधा जवाब लालू को नहीं दिया लेकिन ट्वीट किया, ''योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते देखने के लिए मैं पंडाल में बैठा हूं.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

इसके बाद उन्होंने मंच और पंडाल में खु़द की मौजूदगी वाली तस्वीरें भी पोस्ट कीं. साथ ही लिखा, ''उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के शपथ ग्रहण समारोह में...''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए