सोशल: पाकिस्तान क्रिकेट खेले और भारत का ज़िक्र न हो...ऐसा हो ही नहीं सकता

  • 13 सितंबर 2017
पाकिस्तान क्रिकेट टीम, विश्व एकादश, क्रिक्रेट टीम, भारत इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी के मद्देनज़र विश्व एकादश क्रिकेट टीम पाकिस्तान में क्रिकेट खेलने पहुंची है.

मंगलवार को T-20 सिरीज़ का पहला मैच खेला गया जिसमें पाकिस्तान ने विश्व एकादश को 20 रनों से हरा दिया. गद्दाफ़ी स्टेडियम में खेले गए इस मैच में जितना उत्साह खिलाड़ियों में दिखा, दर्शकों में भी उससे कम नहीं था.

क्या अर्जुन तेंदुलकर 'सचिन' बन पाएंगे?

विश्व एकादश टीम की कप्तानी दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी डुप्लेसिस कर रहे हैं तो पाकिस्तान की कप्तानी सरफ़राज़ ख़ान के हाथों में है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

विश्व एकादश की टीम में दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेश, श्रीलंका और वेस्ट इंडीज़ के खिलाड़ी शामिल हैं, लेकिन इसमें कोई भी भारतीय खिलाड़ी शामिल नहीं है.

इस दौरे का ख़ास मक़सद है पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट के रुके सिलसिले को फ़िर से शुरू करना, लेकिन किसी भी भारतीय खिलाड़ी के शामिल नहीं होने को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

राम रहीम के डेरे में भिड़े थे भारत और पाकिस्तान

एम साद अर्सलान सादिक ने अपने ट्विटर हैंडल से एक तस्वीर शेयर की है. धन्यवाद विश्व एकादश.

इमेज कॉपीरइट Twitter

ख़्वाजा अबैद उल्लाह ने लिखा है थैंक्यू इंडिया फ़ॉर ट्रेडिंग.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सज्जाद लिखते हैं कि ''कोई भारत में फ़ायर ब्रिगेड भेजो वहां दिल जल रहे हैं दिल...''

इमेज कॉपीरइट Twitter

क्वीन नाम के एक ट्विटर हैंडल से भी एक ट्वीट किया गया है. उसमें चीन से सवाल किए गए हैं.

''भारत के लोगों क्या आप देख रहे हैं? आतंकियों क्या आप देख रहे हैं?''

इमेज कॉपीरइट Twitter

हालांकि भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद कैफ़ ने विश्व एकादश और पाकिस्तान के इस मैच पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने इस मैच को पाकिस्तान क्रिकेट के लिए बहुत ज़रूरी बताया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

2009 में पाकिस्तान में श्रीलंका क्रिकेट टीम पर आतंकी हमला हुआ था, उसके बाद इंटरनेशनल क्रिकेट पाकिस्तान में रुक सा गया.

हालांकि, 2015 में ज़िम्बाब्वे की टीम ने आकर वहां वनडे और टी-20 सिरीज़ खेली थी, लेकिन उसका ज़्यादा असर नहीं हुआ था क्योंकि आईसीसी रैंकिंग में ज़िम्बाब्वे की टीम काफ़ी नीचे है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे