सोशल: 'तो आज से डीयू को भी ऐंटी नेशनल घोषित किया जाता है'

डीयू, दिल्ली विश्वविद्यालय, एनएसयूआई, एबीवीपी, बीजेपी, कांग्रेस, सोशल मीडिया

इमेज स्रोत, Twitter

दिल्ली विश्वविद्यालय के चुनावों में कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने चार में दो शीर्ष पदों पद जीत हासिल कर दमदार वापसी की है.

प्रेसिडेंट और वाइस प्रेसिडेंट के पदों पर एनएसयूआई के उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है. जबकि सेक्रेटरी और ज्वाइंट सेक्रेटरी के पदों पर एबीवीपी को जीत मिली है.

रॉकी तुशीद ने प्रेसिडेंट पद के लिए 1,590 वोटों से जीत हासिल की जबकि वाइस प्रेसिडेंट पद पर कुनाल शेरावत को जीत मिली.

इससे पहले एनएसयूआई के अरुण हुड्डा ने 2012 में डूसू अध्यक्ष का पद जीता था.

जाहिर है, चुनाव के नतीजों से कांग्रेस समर्थक खेमें में ख़ुशी का माहौल है. सोशल मीडिया पर भी इस बारे में जोरदार चर्चा हो रही है. ट्विटर पर #DUSUelection2017 और #NSUIwinsDU ट्रेंड कर रहे हैं.

इमेज स्रोत, Tweet

लोग फ़ेसबुक और ट्विटर पर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं दे रही हैं. एनएसयूआई को बधाइयां दी जा रही हैं साथ ही चुटकुले भी बनाए जा रहे हैं. एक ट्विटर यूज़र ने लिखा,''डीयू चुनाव के नतीजे मोदी जी के लिए ऐसे हैं जैसे इंटर्नल मार्क्स, मुख्य परीक्षा में क्या होगा इनका?''

इमेज स्रोत, Twitter

वक़र अहमद कहते हैं,''छात्रसंघ चुनाव में भाजपा की होती हुई हार साबित करती है कि युवा पीढ़ी भाजपा से सख़्त नाराज़ है.'' हदी मोहम्मद ने कहा,''पहले जेएनयू और अब डीयू. कम से कम देश के युवा तो सही सोच रहे हैं.''

इमेज स्रोत, Twitter

राहुल पंडित ने लिखा,''सरकार और हुक्मरानों को समझना होगा. सॉफ़्ट तुष्टिकरण भी नहीं चलेगा. युवा समझदार है, सब समझता है.'' राहुल शर्मा कहते हैं,''जेएनयू और डीयू की हार से पता चलता है कि एबीवीपी अपने ध्येय से भटक रही है और कहीं न कहीं अहंकार में आ रही है.''

इमेज स्रोत, Twitter

सोशल मीडिया यूज़र्स ने कांग्रेस और बीजेपी दोनों पर ही चुटकी लेने का मौका भी नहीं छोड़ा. ROLF KHER नाम के अकाउंट से ट्वीट किया गया,''पिछले साल डीयू में एबीवीपी की जीत का कारण नरेंद्र मोदी थे और इस साल हार का कारण जलवायु परिवर्तन है.''

इमेज स्रोत, Twitter

अनंत सिंह ने तंज किया,''आज से डीयू भी ऐंटी नेशनल घोषित किया जाता है.''

कई लोग डीयू में एबीवीपी की हार को 'तकनीकी समस्या' का नतीज बताते हुए चुटकी ले रहे हैं.

इमेज स्रोत, Twitter

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)