तस्लीमा का सवाल, ‘अगर शरणार्थी हिंदू या बौद्ध होते तो क्या बांग्लादेश शरण देता?'

  • 18 सितंबर 2017
तस्लीमा नसरीन, बांग्लादेश, रोहिंग्या, म्यांमार, हिंदू, बौद्ध, मुस्लिम इमेज कॉपीरइट Getty Images

म्यांमार से रोहिंग्या मुसलमानों का पलायन अब भी जारी है. हज़ारों-लाखों की संख्या में रोहिंग्या बांग्लादेश पलायन कर चुके हैं और अब भी यह पलायन जारी है.

बांग्लादेश ने रोहिंग्या लोगों को अपने यहां शरण दी है. बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने ख़ुद राहत शिविरों का दौरा किया था और मदद का वादा किया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

शेख हसीना ने कहा था कि रोहिंग्या मुसलमानों को वापस लेने के लिए वे म्यांमार पर दबाव डालेंगी लेकिन अगर पलायन करने वाले ये लोग हिंदू, बौद्ध, ईसाई होते और मुस्लिम नहीं होते तो…?

ये सवाल हम नहीं जानी-मानी लेखिका तस्लीमा नसरीन ने उठाया है. तस्लीमा ने एक ट्वीट किया है और एक सवाल पूछा है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

तस्लीमा लिखती हैं, 'बांग्लादेश ने रोहिंग्या लोगों को सिर छिपाने के लिए जगह दी है. अगर ये लोग मुस्लिम न होकर हिंदू, बौद्ध, ईसाई या यहूदी होते तो? ये छत इंसानियत के लिए नहीं बल्कि वोट के लिए दी गई है.'

तस्लीमा के इस ट्वीट पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. तानिया राशिद ने तस्लीमा के इस ट्वीट पर कमेंट किया है और लिखा है कि आप इसमें धर्म को क्यों जोड़ रही हैं?

इमेज कॉपीरइट Twitter

हालांकि तानिया के कमेंट पर भी एक प्रतिक्रिया आयी है जिसमें रोहित शर्मा नाम ने भी अपना तर्क रखा है.

म्यांमार में पिछले महीने शुरू हुई हिंसा के बाद से अब तक करीब 3,79,000 रोहिंग्या शरणार्थी सीमा पार करके बांग्लादेश में शरण ले चुके हैं. रखाइन प्रांत में उनके कई गांव जला दिए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बौद्ध बहुल रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमान अल्पसंख्यक हैं. म्यांमार उन्हें अवैध शरणार्थी मानता है. कई पीढ़ियों से वह म्यांमार में रह रहे हैं लेकिन उन्हें वहां की नागरिकता नहीं मिली है.

बैभव पांडेय लिखते हैं कि यह पश्चिम बंगाल जैसा ही है. वोट बैंक के लिए वे नेशनल सिक्योरिटी को भी नज़रअंदाज कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

ओम प्रकाश शर्मा का कहना है कि पूरी दुनिया में धर्म के चलते परेशानियां पैदा हो रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं सईद सरफ़ुल अनाम ने लिखा है कि क्या आप जानती है कि शरणार्थियों में कई गैर-मुस्लिम भी हैं?

इमेज कॉपीरइट Twitter

पूजन बिस्वास ने लिखते हैं कि बतौर मुस्लिम देश बांग्लादेश ने उन्हें छत दी. इसमें क्या बुराई है. ग़लत तो तब है जब एक सेक्युलर देश ने उन्हें शरण देने से मना कर दिया.

इमेज कॉपीरइट Twitter

सुरेश लिखते हैं क्योंकि आप बांग्लादेश में नहीं रहती हैं, इसलिए आप यह कहने की हिम्मत जुटा सकती हैं, हम नहीं लेकिन...

इमेज कॉपीरइट Twitter

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए