सोशल: नॉन वेज पर मेनका गांधी का बयान कितना सही?

  • 19 सितंबर 2017
मांस, नॉनवेज, मांसाहार, शाकाहारी, बीमारी, मेनका गांधी इमेज कॉपीरइट iStock

शाकाहार बनाम मांसाहार का विवाद नया नहीं है. अब इस विवाद को एक बार फिर हवा मिल गई है.

केंद्रीय महिला एवं बाल कल्याण मंत्री मेनका गांधी ने कहा है कि अगर आप मांस खाएंगे तो धीरे-धीरे मांस ही आपको खा जाएगा.

मेनका ने 'एविडेंस-द मीट किल्स' नाम की फ़िल्म के लॉन्च के मौके पर ये बात कही.

'भगवान गणेश' को मांस खाते दिखाने वाले विज्ञापन पर बवाल

उन्होंने कहा कि दशकों से चले आ रहे अध्ययनों से ये साबित होता है कि मांसाहार इंसान के शरीर के लिए नुकसानदेह है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

केंद्रीय मंत्री ने कहा,''मानव शरीर का हर हिस्सा और हर अंग शाकाहारी है. जब मांस जैसी कोई बाहरी चीज़ हमारे शरीर में जाती है तो हमारे बीमारियों की चपेट में आने की आशंका बढ़ जाती है.

सनी लियोनी ने क्यों छोड़ा मांस खाना?

उन्होंने आगे कहा,''अगर आप रोज-रोज मांस खाते हैं तो आपका शरीर कमजोर हो जाता है. आप नॉनवेज खाने से मरेंगे तो नहीं लेकिन इससे आपका शरीर कमज़ोर ज़रूर हो जाएगा. बीमारियां आपको आसानी से जकड़ लेंगी.''

विधायक ने 19 साल बाद फिर बीफ़ क्यों खाया?

हालांकि मेनका ने इस बात पर ज़ोर दिया कि फिल्म का मकसद लोगों को मांसाहार से रोकना नहीं बल्कि उन्हें इसके फ़ायदे और नुकसान के बारे में बताना और सही जानकारी देना है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

शाकाहार और मांसाहार को लेकर इन दलीलों में कितनी सच्चाई है, यही जानने के लिए बीबीसी ने डायट एक्सपर्ट डॉ. अपर्णा टंडन से बात की.

हमने उनसे पूछा कि क्या वाकई मांसाहार सेहत के लिए नुकसानदेह है? उन्होंने कहा,''हर तरह की डाइट की अपनी-अपनी खूबियां और कमियां हैं, फिर चाहे वो मांसाहार हो या शाकाहार.''

डॉ. अपर्णा ने कहा,''अगर हम मीट की बात करें तो यह भी कई तरह का होता है. नॉनवेज खाने में प्रोटीन काफी मात्रा में मिलता है लेकिन साथ ही फ़ैट और कोलेस्ट्रॉल भी होता है.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा,''कोई भी खाना आपको कितना नुकसान या फायदा पहुंचाता है, यह कई बातों पर निर्भर करता है. जैसे कि आप कितनी मात्रा में खा रहे हैं, खाने का कौन सा हिस्सा खा रहे हैं और उसे कैसे पका रहे हैं.

''इसे ऐसे समझा जा सकता है कि अगर आप मछली भून कर या ऑलिव ऑयल में पकाकर खा रहे हैं तो वो पक्के तौर पर वह डीप फ्राइड मछली के मुकाबले बेहतर होगा.''

लेकिन मांस खाना इंसान के शरीर के लिए नुकसानदेह है, यह कहना अपने आप में कितना सही है?

इसके जवाब में डॉ. अपर्णा कहती हैं, ''मैं इससे इत्तेफ़ाक नहीं रखती. जैसा कि मैंने पहले कहा हर तरह के खाने के फ़ायदे और नुकसान हैं. अगर आप शाकाहारी खाना बेहिसाब मात्रा में और खूब तेल-घी में पकाकर खाएंगे तो वो भी नुकसानदेह ही होगा.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे