मोदी ने राहुल गांधी पर 'शहज़ादा' कहकर तंज़ कसा था, राहुल ने किसे कहा 'शाह-ज़ादा'?

  • 9 अक्तूबर 2017
राहुल गांधी, नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

सियासत का मिजाज़ ही कुछ ऐसा है कि कल के नारे आज फिर प्रासंगिक हो जाते हैं. और उस पर तुर्रा ये है कि जो कल वो जुमले इस्तेमाल कर रहा था, उसी के ख़िलाफ़ आज वो इस्तेमाल हो सकते हैं.

कुछ ऐसा ही खेल इन दिनों कांग्रेस और भाजपा के सबसे बड़े खिलाड़ियों के बीच चल रहा है.

एक तरफ़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह हैं और उनके सामने हैं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी. साल 2014 का चुनाव याद होगा ही.

'शहज़ादा बनाम शाहज़ादा'

इमेज कॉपीरइट AFP

इस चुनाव से जुड़े प्रचार में मोदी, राहुल गांधी का नाम विरले ही लेते थे. वो उन्हें 'शहज़ादा' कहकर पुकारते थे और सोनिया गांधी को 'मैडम' कहा करते थे.

कौन हैं देश के सबसे ताक़तवर नेता का बेटा जय शाह?

नज़रिया: 'स्ट्रीट फ़ाइट' के नए तरीक़े ढूंढ़िए, मोदी जी!

जब मोदी, मैडम और शहज़ादा बोलते, तो उनकी भाषा तंज़ लिए होती थी और पब्लिक हाथों हाथ लिया करती थी. आज मौसम थोड़ा बदला है.

न्यूज़ वेबसाइट 'द वायर' में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी के कारोबार के संबंध में छपी एक ख़बर ने सियासी हलकों में हंगामा मचा दिया है.

भाजपा उतरी बचाव में

इमेज कॉपीरइट AFP

भाजपा और सरकार ने इस हमले को कितनी गंभीरता से लिया, इस बात से समझा जा सकता है कि रेल मंत्री पीयूष गोयल को प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलानी पड़ी.

कांग्रेस ने ख़बर का हवाला देते हुए आरोप लगाया कि 2015-16 में जय शाह की कंपनी का सालाना कारोबार 50 हज़ार से बढ़कर 80.5 करोड़ रुपए तक पहुंचने की जांच होनी चाहिए.

अमित शाह के बेटे पर लगे आरोपों ने कांग्रेस को बैठे-बैठे हथियार दे दिया है और भाजपा ने इस पर प्रतिक्रिया देकर उसे और उत्साहित कर दिया है.

और अब हमला करने मैदान में उतरे हैं राहुल गांधी.

राहुल गांधी काफ़ी आक्रामक

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

वायर की इस ख़बर को पोस्ट करते हुए राहुल गांधी ने रविवार को ट्वीट किया था, ''हमें आख़िरकार वो लोग मिल ही गए जिन्हें असल में नोटबंदी से फ़ायदा मिला है. इसका फ़ायदा आरबीआई या गरीबों या किसानों को नहीं मिला. फ़ायदे उठाने वाले शाह-इन-शाह हैं. जय अमित.''

और सोमवार को उन्होंने अपने हमले को और धार दी. उन्होंने टि्वटर पर लिखा, ''मोदीजी, जय शाह-'जादा' खा गया. आप चौकीदार थे या भागीदार? कुछ तो बोलिए...''

'शाह-जादा' या 'शहज़ादा' लफ़्ज़ पर ख़ास ध्यान देने की ज़रूरत है.

मोदी से क्या शिकायत?

इमेज कॉपीरइट AFP

साल 2013-14 में लोकसभा चुनावों से पहले मोदी जब राहुल को शहज़ादा कहकर पुकारते थे तो कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि वो अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करते हैं और सियासी बातचीत को निचले स्तर पर ले जा रहे हैं.

पार्टी ने ये भी कहा था कि कांग्रेसी कार्यकर्ता इस तरह की भाषा को स्वीकार नहीं करेंगे लेकिन वो क़ानून और चुनाव आयोग की आचार संहिता का सम्मान करते हैं इसलिए ख़ुद पर काबू रखे हुए हैं. इसी बात का जवाब मोदी ने पटना रैली में दिया था.

कांग्रेस को जवाब दिया

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा, ''कांग्रेस के मित्र बहुत परेशान हैं कि मोदी शहज़ादा क्यों कह रहे हैं...उन्हें नींद नहीं आती. लेकिन मैं पूछता हूं कि शहज़ादा कहने की नौबत क्यों आई. अगर कांग्रेस विरासतवादी राजनीति बंद कर देगी तो मैं उन्हें शहज़ादा कहना बंद कर दूंगा.''

शहज़ादा लफ़्ज़ पर ऐतराज़ जताने वाली कांग्रेस अब इसी लफ़्ज़ से पलटवार की कोशिश कर रही है. और जिन राहुल गांधी को मोदी शहज़ादा कहते थे, वहीं राहुल गांधी अमित शाह के बेटे को 'शाह-ज़ादा' कहकर तंज़ कस रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए