'बर्बर हत्यारे' टीपू के कार्यक्रम में मुझे न बुलाएं: अनंत कुमार हेगड़े

  • 21 अक्तूबर 2017
टीपू, टीपू सुल्तान, कर्नाटक, टीपू जयंती, कांग्रेस, बीजेपी, हिंदू, मुस्लिम, सोश मीडिया, अनंत कुमार हेगड़े इमेज कॉपीरइट Thinkstock

कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती मनाने पर होने वाला विवाद नया नहीं है. यह विवाद इस साल भी गहराता नज़र आ रहा है.

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने राज्य सरकार के टीपू की जयंती मनाने के फ़ैसले की निंदा की है और टीपू को 'बर्बर हत्यारा और बलात्कारी' बताया है . हेगड़े कर्नाटक के उत्तर कन्नड़ जिले से हैं.

उन्होंने कर्नाटक सरकार को इस बारे में चिट्ठी लिखी है और इसे ट्विटर पर भी शेयर किया है.

वहीं कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि मंत्री को इस तरह का पत्र नहीं लिखना चाहिए.

अनंत कुमार ने ट्वीट किया है, "मैंने कर्नाटक सरकार से कहा है कि मुझे एक बर्बर हत्यारे, सनकी और बलात्कारी को महिमामंडित किए जाने वाले किसी भी शर्मनाक कार्यक्रम में न बुलाए."

दुनिया का पहला मिसाइलमैन टीपू सुल्तान

इमेज कॉपीरइट Twitter

कर्नाटक की कांग्रेस सरकार टीपू सुल्तान को देशभक्त और स्वतंत्रता सेनानी बताती है जिसने ब्रिटिश हुकूमत से लोहा लिया.

वहीं, बीजेपी और कई संगठन उसे धर्मांध तानाशाह मानते हैं जिसने लोगों को इस्लाम कबूल करने पर मजबूर किया.

राम नाम वाली टीपू सुल्तान की अंगूठी

इमेज कॉपीरइट Twitter

पिछले दो सालों में टीपू जयंती मनाने को लेकर हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए हैं. इसके बावजूद कांग्रेस सरकार लगातार तीसरी बार ये जयंती मनाने जा रही है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार सिद्धारमैया ने कहा कि सरकार में होते हुए मंत्री को ऐसा पत्र नहीं लिखना चाहिए. उन्होंने कहा कि टीपू जयंती कार्यक्रम का निमंत्रण सभी केंद्रीय और राज्य मंत्रियों को भेजा जाता है. किसी को इसमें आना है या नहीं ये उन लोगों पर निर्भर करता है. इस मामले को बेवजह से राजनीतिक मुद्दा बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ब्रिटिश सरकार के ख़िलाफ़ चार युद्ध लड़े गए और इन सभी में टीपू सुल्तान ने हिस्सा लिया.

खिसकाया जा रहा है टीपू सुल्तान का शस्त्रागार

सोशल मीडिया पर भी इसकी चर्चा है. ट्विटर पर Tipu टॉप ट्रेंड्स में है और इस बारे में अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं देखने को मिल रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

कई लोग टीपू जयंती मनाने के फ़ैसले का समर्थन कर रहे हैं तो बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो इसके विरोध में हैं.

कुछ लोगों को लगता है कि हेगड़े कन्नड़ समुदाय का दर्द समझते हैं और उन्होंने उचित फैसला लिया है. कुछ को लगता है कि वो सिर्फ हिंदुत्व की 'मार्केटिंग' करने के लिए ऐसा कर रहे हैं.

श्रीनारायण सिंह नाम के एक ट्विटर यूज़र ने लिखा, "कर्नाटक सरकार द्वारा टीपू का जन्मदिन मनाया जाना हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने वाला है."

इमेज कॉपीरइट Twitter

वहीं, एक दूसरे ट्विट यूज़र ने लिखा कि टीपू के बिना भारत का कोई अतीत नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

कुंवर अतीक अहमद ने ट्वीट किया, "टीपू सुल्तान भारत के सबसे महाने स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे