सोशल: पैड के साथ फ़ोटो क्यों शेयर करने लगे ये लोग...

  • 3 फरवरी 2018
पैड के साथ ट्विंकल खन्ना इमेज कॉपीरइट Twitter/mrsfunnybones
Image caption पैड के साथ ट्विंकल खन्ना

महिलाओं को पीरियड्स यानी माहवारी के दौरान होने वाली परेशानियों पर आधारित अक्षय कुमार की फ़िल्म 'पैडमैन' 9 फरवरी को रिलीज़ होने वाली है.

लेकिन उस से पहले तेजी से फ़िल्म का प्रमोशन किया जा रहा है. सोशल मीडिया पर कई लोग सैनिटरी पैड के साथ अपनी तस्वीरें शेयर कर रहे हैं.

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक दूसरे को #PadManChallenge दिया जा रहा है और तीन अन्य लोगों को ये चैलेंज पूरा करने की चुनौती देने के लिए कहा जा रहा है.

इसमें फ़िल्म की प्रोड्यूसर ट्विंकल खन्ना, अक्षय कुमार, राधिका आप्टे से लेकर आमिर ख़ान तक शामिल हुए. ये अभियान लोगों को पीरियड्स के बारे में जागरूक करने के लिए किया जा रहा है.

अक्षय कुमार की पत्नी और फ़िल्म की प्रोड्यूसर ट्विंकल खन्ना ने ट्विटर पर अपनी फ़ोटो के साथ लिखा, "@murugaofficial मुझे टैग करने के लिए शुक्रिया. मेरे हाथ में सैनिटरी पैड है और इसमें शर्मिंदा होने की कोई बात नहीं. पीरियड्स होना एक सामान्य प्रक्रिया है."

उन्होंने लिखा, "मैं आमिर ख़ान, शबाना आज़मी और हर्ष गोयंका को ये चैलेंज लेने के लिए चुनौती देती हूं."

चैलेंज स्वीकारते हुए आमिर ख़ान ने ट्विंकल को धन्यवाद दिया. उन्होंने आगे अमिताभ बच्चन, शाहरुख़ ख़ान और सलमान ख़ान को ये चैलेंज लेने की चुनौती दी.

आरपीजी एंटरप्राइज़्स के चेयरमैन हर्श गोयंका ने भी ट्विंकल खन्ना के चैलेंज को स्वीकार करते हुए उन्हें धन्यवाद दिया और तीन और लोगों को ये चैलेंज लेने के लिए टैग किया.

इस अभियान में राधिका आप्टे और अक्षय कुमार भी शामिल हुए.

अभियान की शुरूआत

ये अभियान 'पैडमैन' फ़िल्म के प्रचार के लिए किया जा रहा है. फ़िल्म अरूणाचलम मुरुगनाथम के जीवन पर आधारित है. इसमें लोगों को महिलओं में माहवारी और सैनिटरी पैड के इस्तेमाल के लिए जागरूक किया गया है.

दरअसल इस अभियान को सालों पहले मुरुगनाथम ने ही शुरु किया था. उन्होंने ही अपने ट्विटर अकाउंट पर पैडमैन चैलेंज शुरू किया और सबसे पहले ये चैलेंज अक्षय कुमार, ट्विंकल खन्ना, सोनम कपूर और राधिका आप्टे को दिया.

इसे आगे बढ़ाते हुए इन अभिनेताओं ने अपने-अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर सैनिटरी पैड हाथ में लिए तस्वीर पोस्ट की.

अरुणाचलम मुरुगनाथम तमिलनाडु के एक व्यवसायी हैं. उन्होंने ग्रामीण महिलाओं को जागरूक करने के लिए सस्ते सैनिटरी पैड बनाये और उन्हें इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित किया.

ये अभियान अमरीका तक पहुंच गया है, जहां इसके समर्थन में लोग अपने सोशल मीडिया अकांउट पर पैड के साथ फ़ोटो डाल रहे हैं.

क्या कहते हैं आंकड़े?

हाल ही में जारी किए गए नेशनल फ़ैमिली हेल्थ सर्वे- 4 की रिपोर्ट के मुताबिक 15 से 24 साल की उम्र की लड़कियों में से 42 फ़ीसदी महिलाएं ही सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करती हैं.

पीरियड्स के दौरान 62 फ़ीसदी महिलाएं कपड़े का इस्तेमाल करती हैं. तकरीबन 16 फ़ीसदी महिलाएं स्थानीय स्तर पर बनाए गए सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करती हैं.

सैनिटरी पैड के ऐड में अब दिखेगा 'असली ख़ून'

क्या आप 'पैड वूमन' माया को जानते हैं?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए