फ़ेसबुक से हटाई गई हिंदू-मुस्लिम प्रेमी जोड़ों की 'हिट लिस्ट'

  • 5 फरवरी 2018
विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सूची में हिंदू लड़कियों से कथित रिश्ते रखने वाले मुस्लिम पुरुषों के नाम और उनके फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल के लिंक थे

102 हिंदू लड़कियों और उनके कथित मुस्लिम प्रेमियों की सूची जारी करने वाला फ़ेसबुक पेज डिलीट कर लिया गया है.

'हिंदुत्व वार्ता' नाम के इस पेज पर डाली गई 'हिट लिस्ट' में शामिल लड़कियां हिंदू और लड़के मुसलमान थे. पेज पर हिंदुओं से इन मुस्लिम लड़कों को 'खोजने और उनका शिकार करने' को कहा गया था.

सोशल मीडिया पर फैलने के बाद इस सूची के ख़िलाफ़ एक आक्रोश दिखा, जिसके बाद फेसबुक पेज डिलीट कर लिया गया.

यह पेज कौन चला रहा था, यह अभी साफ़ नहीं है.

लिस्ट में फ़ेसबुक प्रोफाइल का लिंक भी था

इमेज कॉपीरइट Courtesy: ALT News
Image caption 'हिंदुत्व वार्ता' फेसबुक पेज पर यह सूची डाली गई थी, जिसे अब हटा लिया गया है

इस सूची में इन पुरुषों की सूची के साथ उनके फ़ेसबुक प्रोफाइल के लिंक भी थे, जिससे उनकी सुरक्षा को लेकर चिंताएं पैदा हो गई थीं.

बताया जा रहा है कि यह सूची सोशल मीडिया पर बीते दो दिनों से तैर रही थी. फिर एक ट्विटर यूज़र ने इस ओर ध्यान दिलाया.

यह फ़ेसबुक पेज अभी उपलब्ध नहीं है. हालांकि वेबसाइट 'एएलटी न्यूज़' के पास इस पेज की पोस्ट्स के स्क्रीनशॉट्स हैं. इसमें उस सूची का पोस्ट भी है, जिसमें शामिल नाम धुंधले कर दिए गए हैं.

पढ़ें: क्या कोर्ट भी 'लव जिहाद' कहनेवालों का पक्ष ले रहे हैं?

'चेताने वाली बात'

इन पोस्ट्स में कथित 'लव जिहाद' के ख़िलाफ़ हिंसा के लिए उकसावा साफ दिखता है.

एएलटी न्यूज़ के सह-संस्थापक प्रतीक सिन्हा ने बीबीसी से बातचीत में कहा, "ऐसी किसी सूची की मौजूदगी ही अपने आप में चेताने वाली बात है. यह सोचना भी बहुत परेशान करता है कि किसी ने इन नामों को खोजने के पीछे अपना इतना समय लगाया होगा."

माना जा रहा है कि यह सूची फ़ेसबुक के 'रिलेशनशिप स्टेटस' वाले सेक्शन में दी गई जानकारी के आधार पर बनाई गई होगी.

पढ़ें: हर अंतरधार्मिक शादी, लव जिहाद नहीं: कोर्ट

इमेज कॉपीरइट Courtesy: ALT News

प्रतीक सिन्हा के मुताबिक, ऐसी सूची पहले भी आ चुकी है. उनके मुताबिक, नवंबर 2017 में 'जस्टिस फ़ॉर हिंदूज़' नाम के फ़ेसबुक पेज से ऐसी सूची सामने आई थी, लेकिन उसमें हिंसा के लिए नहीं उकसाया गया था.

उन्होंने कहा, "इसी तरह सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार किया जाता है. इस तरह की सूची एक पेज से दूसरे पर साझा की जाती है."

'हिंदुत्व वार्ता' पेज की ही एक पुरानी पोस्ट में हिंदू माता-पिताओं से अपनी बेटियों को बंदूक चलाना सिखाने को कहा गया था, ताकि वे 'लव जिहाद' के ख़िलाफ़ अपनी रक्षा कर सकें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे