मनोहर पर्रिकर पर लड़कियों का 'बीयर से हमला'

  • 11 फरवरी 2018
मनोहर पर्रिकर, शराब, ट्विटर इमेज कॉपीरइट Reuters

लड़कियों के खाने-पीने, पहनने और बोलने-चालने को लेकर कई बार बयानबाजियां होती रही हैं.

इस बार भी लड़कियों के शराब पीने को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ी और ट्विटर पर #GirlsWhoDrinkBeer ट्रेंड करने लगा है.

इस बहस की वजह है गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का एक बयान.

सोशल मीडिया पर पर्रिकर के उस बयान की आलोचना हो रही है जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें डर लगने लगा है क्योंकि अब लड़कियां भी शराब पीने लगी हैं. सहनशीलता की सीमा पार की जा रही है.

खबरों के मुताबिक पर्रिकर ने बीते शुक्रवार को राज्य विधानमंडल विभाग द्वारा आयोजित स्टेट यूथ पार्लियामेंट में ये बात कही थी.

पर्रिकर इस दौरान नौजवानों में नशे की लत पर बात कर रहे थे.

उनके बयान के बाद लड़कियां ट्विटर पर पोस्ट करके और शराब के साथ फोटो डालकर मनोहर पर्रिकर के बयान का विरोध कर रही हैं.

एक यूजर 'निशिता गौतम' ने पोस्ट किया, ''मिस्टर पर्रिकर, गोवा से चीयर्स. चलो लेडीज इस वीकेंड को मज़ेदार बनाएं.''

यूजर 'वीना वेणुगोपाल' ने ​पोस्ट किया, ''#GirlsWhoDrinkBeer अपने पिता के साथ भी पीती हैं.''

यूजर 'शिखा' ने ट्वीट किया, ''मिस्टर पर्रिकर मैं आपका डर देख सकती हूं...''

एक अन्य यूजर 'एनआरके' ने लिखा, ''कभी-कभी अपने पिता के साथ भी.''

फिल्ममेकर विवेक ​अग्निहोत्री ने ट्वीट किया है, ''एक असली लड़की. सेल्फी गेंग की नकली नारीवादी नहीं.''

यूजर सीमा गोस्वामी ने लिखा, ''सिर्फ बीयर पर ही क्यों रुकें, डियर लेडीज? सबकुछ पियो!''

यूजर प्राची ने पोस्ट किया, ''#GirlsWhoDrinkBeer उन नेताओं से बेहतर जो अब भी पोगो देखते हैं और गौमूत्र पर हंगामा करते हैं!''

कुछ लोगों ने मनोहर पर्रिकर के समर्थन में भी ट्वीट किये हैं. यूजर 'रोहन शिंदे' ने लिखा, ''#GirlsWhoDrinkBeer पर प्रतिक्रियाएं देखीं. लेकिन, लोग भूल गए हैं कि मनोहर पर्रिकर जैसे सभ्य व्यक्ति नौजवानों में नशे की लत को लेकर सिर्फ चिंता जता रहे थे.''

एक अन्य यूजर 'नास्तिक' ने लिखा है, ''शराब पीने वाली लड़कियां देसी पीने वाले मर्दों से बेहतर हैं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे