सेक्स के अलावा कंडोम से क्या-क्या कर सकते हैं?

  • 13 फरवरी 2018
कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट Getty Images

कंडोम, ये शब्द ज़हन में आते ही हम सेक्स के बारे में सोचने लगते हैं.

लेकिन, आबादी काबू रखने और सुरक्षित यौन संबंधों के लिए ज़रूरी माने जाने वाले कंडोम का इस्तेमाल दूसरे कामों में भी किया जा सकता है.

इनमें से कुछ आइडिया अच्छे हैं, कुछ अजीब लेकिन इन सभी को आज़माया जा चुका है.

अगर आप में भी इस तरह का कोई उत्साह है, तो इनमें से कुछ आज़मा सकते हैं.

इंटरनेशनल कंडोम डे पर जानिए सुरक्षित यौन संबंधों के लिए ज़रूरी ये उत्पाद और क्या-क्या कमाल कर सकता है?

कंडोम में अदरक की क्या ज़रूरत?

कंडोम इस्तेमाल क्यों नहीं करते गरीब?

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट Getty Images

पानी रखने के लिए

कॉम्पैक्ट, खींचने में आसान और वॉटरटाइट, फंसने पर कंडोम काफ़ी काम आ सकते हैं.

अगर आप सही तरह से इस्तेमाल करना सीख जाएं, तो एक कंडोम में दो लीटर तक पानी स्टोर कर सकते हैं.

अगर ऐसा कभी हो कि कोई जंगल में फंस जाए और पानी न हो और पानी का स्रोत मिलने के समय आपके पास बोतल भी न हो तो क्या किया जा सकता है.

ऐसे में कंडोम हो उसमें पानी इकट्ठा किया जा सकता है. ये मुश्किल वक़्त में आपके काम आ सकता है.

कंडोम के विज्ञापन: निरोध से सॉफ़्ट पॉर्न तक

उंगलियां बता देंगी कंडोम इस्तेमाल किया या नहीं!

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट INDRANIL MUKHERJEE/AFP/GETTY IMAGES

टॉयलेट से सामान निकालने के लिए

टॉयलेट में कुछ सामान गिर जाए तो उससे निकालना बहुत बड़ी चुनौती बन जाता है.

यहां भी कंडोम आपके काम आ सकता है. कंडोम को हाथ में पहनकर आप टॉयलेट के अंदर हाथ डाल सकते हैं.

इससे आप सामान भी निकाल लेंगे और टॉयलेट की गंदगी से भी बच जाएंगे. आपका हाथ ​बिना भीगे बाहर आ जाएगा.

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट Getty Images

घड़ी या फोन को पानी से बचाएं

जब बारिश होती है तो हमें खुद से ज्यादा मोबाइल या घड़ी भीगने का डर ज़्यादा होता है.

बैग हो या पॉकेट कहीं भी उसे पानी से पूरी तरह नहीं बचाया जा सकता है.

लेकिन, ऐसे में कंडोम आपके काम आ सकता है.

पानी से बचाने के लिए कंडोम में मोबाइल और घड़ी को रख सकते हैं या फिर कलाई पर ही घड़ी के ऊपर लपेट सकते हैं.

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट Getty Images

तेजी से आग पकड़ने वाला

कंडोम में तेजी से आग पकड़ता है.

अगर आप कहीं जंगल में फंस गए हैं और आपके पास माचिस या लाइटर और कंडोम है तो आप इसका फायदा उठा सकते हैं.

अगर आप आग के जरिये खुद को बचाना चाहते हैं और बड़ी आग के लिए कुछ नहीं है तो कंडोम जलाकर आप ऐसा कर सकते हैं.

कंडोम तुरंत आग पकड़ता है और इससे आप बड़ी आग जला सकते हैं.

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट China Photos/Getty Images

कंडोम की जुराब

अगर सड़क पर पानी भरा हो और आपको निकलना हो तो जूते और पैर भीगने के डर से आप ठहर जाते हैं लेकिन कंडोम उस वक्त जुराबों का काम कर सकता है.

ऐसी जुराबें जो आपके पैरों को भीगने से बचा लें. कंडोम को पैरों में पहन लीजिए.

इसके बाद पानी में उतरने पर आपके पूरे जूते जरूर भीग जाएंगे लेकिन पैरों पर एक बूंद पानी भी नहीं लगेगा.

इससे आपको पैरों में गीलापन नहीं महसूस होगा.

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट INDRANIL MUKHERJEE/AFP/Getty Images

मज़ेदार खाना बनाएं

कंडोम से मज़ेदार खाना बना सकते हैं, यह सुनने में थोड़ा अजीब जरूर लगता है लेकिन आप वाकई ऐसा कर सकते हैं.

कंडोम के इस्तेमाल से आप स्वादिष्ट मीट बना सकते हैं.

इसके लिए कंडोम में मीट डालें और उसे पानी में उबाल लें. इस बात का ध्यान जरूर रखें कि तापमान 100 डिग्री फेरेनहाइट तक ही हो वरना कंडोम फट जाएगा.

ये कितना स्वादिष्ट होगा ये पता लगाने के लिए आप एक कोशिश ख़ुद भी कर सकते हैं.

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट Getty Images

कोल्ड पैक के लिए

कंडोम से कोल्ड पैक बनाना बहुत आसान है.

इसके लिए कंडोम में पानी भरकर उसे कसकर बांध दीजिए और फिर फ्रिजर में रख दीजिए.

कुछ घंटों के बाद आपको एक आइसपैक मिलेगा जिससे आप दर्द की जगह सिकाई कर सकते हैं.

कंडोम, इंटरनेशनल कंडोम डे इमेज कॉपीरइट China Photos/Getty Images

ड्रग्स छुपाने के लिए

कई लोग कंडोम का इस्तेमाल ड्रग्स छुपाने के लिए भी करते हैं. वो कंडोम में ड्रग्स रखकर उसे निगल जाते हैं.

इससे शरीर के अंदर ड्रग्स में पानी या कुछ और नहीं जा पाता. ड्रग्स कंडोम में सुरक्षित रहते हैं.

जरूरत पड़ने पर वो लोग कंडोम को बाहर निकाल लेते हैं.

ऐसा करने का एक खास तरीका होता है और जिन्हें इसकी जानकारी होती है वो ही ये काम कर पाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे