रूहानी के ईरान में योग एक खेल है

  • 17 फरवरी 2018
ईरान, योगा, इस्लाम, इस्लाम और योगा इमेज कॉपीरइट Getty Images

ईरान में योग काफी लोकप्रिय है. एक दशक पहले यहां योग को लेकर वो हालात नहीं थे जो अब हैं. कई लोग ये भी मानते हैं कि योग उनकी ज़िंदगी का अहम हिस्सा बन गया है.

हालांकि, योग को लेकर यह डर भी बना रहता है कि यह इस्लाम के​ ख़िलाफ़ तो नहीं. इस डर के बावजूद भी लोग योग करने में बहेद रूचि दिखाते हैं.

ऐसे में ईरान और योग के बीच क्या जुड़ाव है यह जानना बेहद दिलचस्प है.

ईरान में 1979 की क्रांति के बाद योग एक दशक से ज़्यादा वक्त तक लोकप्रिय नहीं था लेकिन आज यहां योग की अलग जगह है.

ईरान में बड़ी संख्या में योग की क्लास होती हैं. इसके लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है. साथ ही इस पर बड़ी संख्या में किताबें भी मिलती हैं.

योग को एक खेल की तरह माना जाता है और लोग इसे अंदरूनी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद मानते हैं.

ईरान में योग की तरफ बढ़ते झुकाव का एक कारण बताया जाता है तनाव. शहरों में रहने वाले ईरानी तनावपूर्ण माहौल में रहते हैं. पिछले 10-15 सालों के दौरान उनमें गुस्सा और उत्तेजना बढ़ी है.

क्या योग करने से कोई हिंदू हो जाता है?

गुजरात के मुसलमानों में प्रचलित है योग के यह रूप

इसमें सुधार के लिए योग उनकी मदद करता है. योग करने वालों का मानना है कि योग आपको अंतर मन से ठीक करता है और वर्तमान में सोचना सिखाता है.

धार्मिक टकराव क्यों?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

योग क्लासेज में पारंपरिक मान्याताओं वाले और धर्मनिरपेक्ष दोनों तरह के लोग आते हैं. योग करने वालों में भी कई बार धार्मिक टकराव को लेकर चिंता दिखती है.

सरकार की तरफ से ये चिंता ज़ाहिर की जाती रही है कि ईरान के लोगों में इस्लाम से योग की तरफ झुकाव बढ़ रहा है.

जानकार बताते हैं कि योग को देखने के तीन नज़रिये हैं जिनमें से दो को लेकर तो समस्या नहीं है लेकिन तीसरा नज़रिया कुछ डर पैदा करता है.

मुस्लिम महिलाओं के लिए ख़ास इस्लामिक योग

योग कैसे बदल रहा है इन बच्चों की ज़िंदगी

योग कुछ बीमारियों के इलाज में मदद करता है. इस तरह से इसे अपनाने में कोई समस्या नहीं होती. साथ ही सेहत बनाए रखने के लिए व्यायाम के तौर पर भी इसमें कोई समस्या नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

समस्या है तीसरे पहलू में जो शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास की बात करता है. इस्लाम में इसे लेकर चिंता है क्योंकि योग की पृष्ठिभूमि में मौजूद हिंदू धर्म है. साथ ही शरिया में भी इसका ज़िक्र नहीं है इसलिए भी आपत्ति होती है.

योग एक खेल

योग सिखाने वालों को ईरान में इसके लिए संघर्ष करना पड़ा है. उन्हें सरकार को ये साबित करना पड़ा है कि योग धर्म से नहीं जुड़ा है. यह स्वास्थ्य बेहतर करने और आध्यात्मिक शुद्धता के लिए है.

ईरानी सरकार ने योग को आक्रामक तरीके से संचालित किया. योग क्लास के लिए परमिट जारी किए गए और इसे सिखाने के दौरान इस्तेमाल की जाने वाली भाषा का भी खासा ध्यान रख गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि, योग के स्वास्थ्य लाभ से जुड़े पक्ष पर आध्यात्मिक पहलू के मुकाबले ज़्यादा ज़ोर देने से उसे ईरानी सरकार से स्वीकृति मिलने में मदद मिली. साथ ही योग के लिए अन्य खेलों की तरह एक फेडरेशन भी बनाया गया.

फेडरेशन योग से जुड़ी प्रतियोगिताएं भी आयोजित करता है जिसमें अन्य देशों को भी बुलाया जाता है. यहां योग को एक खेल भी माना जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे