श्रीदेवी: 'बॉलीवुड की अमावस्या हो गई, हिंदी सिनेमा की चाँदनी चली गई'

  • 25 फरवरी 2018
श्रीदेवी इमेज कॉपीरइट DIBYANGSHU SARKAR/AFP/Getty Images

'सदमा', 'नगीना', 'चांदनी', 'मिस्टर इंडिया', 'लम्हे', 'लाडला'...

ये श्रीदेवी के 50 साल बरस के फ़िल्मी करियर के कुछ वो नाम हैं जो उनके चाहने वालों के दिलों में हमेशा ताज़ा रहेंगे.

वो यूं हीं बॉलीवुड की पहली फ़ीमेल सुपरस्टार नहीं कही गई थीं. उनका जाना न केवल बॉलीवुड बल्कि उनके फ़ैंस के लिए भी किसी सदमे से कम नहीं है.

ट्विटर पर आ रही प्रतिक्रियाएं इसका अंदाज़ा देती हैं कि वो किस कदर लोकप्रिय थीं.

वो 'लम्हे' वो 'चांदनी' और अब ये 'जुदाई' का 'सदमा'

रूप की रानी श्रीदेवी ने दिया सदमा, दिल के दौरे से निधन

'पहले हम झाड़ियों के पीछे कपड़े बदला करते थे'

श्रीदेवी के साथ 'चांदनी' और 'लम्हे' जैसी फ़िल्मों में काम कर चुके अनुपम खेर ने लिखा है, "यकीन करना मुश्किल है, विचलित हूं... क्या मैं कोई डरावना ख़्वाब देख रहा हूं. श्रीदेवी नहीं रहीं? ये बहुत उदास करने वाली ख़बर है. वे अब तक की सबसे प्रतिभाशाली और खूबसूरत अभिनेत्रियों में से एक थीं. क्वीन ऑफ़ इंडियन सिनेमा. एक दोस्त. उनके साथ कई फ़िल्मों में काम किया. और कई यादें..."

बीबीसी एक मुलाक़ात - श्रीदेवी

श्रीदेवी: हिंदी फिल्मों की कम बैक क्वीन?

बीबीसी संवाददाता योगिता लिमये ने लिखा है, "बराबरी पर बहस शुरू होने से काफी पहले श्रीदेवी उन गिनीचुनी अभिनेत्रियों में से थीं जिन्हें फ़िल्मों में लीड रोल के लिए कास्ट किया गया था."

लंदन के मेयर सादिक़ ख़ान ने श्रीदेवी के साथ अपनी आख़िरी मुलाकात को याद करते हुए लिखा है, "हाल ही में भारत दौरे के समय बॉलीवुड आइकन श्रीदेवी से मिलकर बहुत अच्छा लगा था. उनके जैसी प्रतिभाशाली अभिनेत्री, परफ़ॉर्मर और प्रोड्यूसर मौत की ख़बर ने बहुत उदास कर दिया है."

'रईस' में काम कर चुकीं पाकिस्तानी अभिनेत्री माहिरा ख़ान ने लिखा है, "श्रीदेवी के दौर में बड़ा होना और जीना फ़क्र की बात है. आपके सिनेमा और आपके जादू के लिए शुक्रिया. आप हमारी यादों में हमेशा ज़िंदा रहेंगी."

उनकी मौत से ट्विटर उदास लग रहा है.

श्रीदेवी की मौत पर एक ट्विटर यूज़र संदीप होट्टा ने लिखा है, "बेपनाह खूबसूरती के पांच दशक. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे."

आशीष रंजन मिश्रा का ट्वीट है, "आज बॉलीवुड की अमावस्या हो गई. हिंदी सिनेमा की चाँदनी चली गई."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक औरट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए