तमिलनाडुः जयललिता की मूर्ति की 'कॉस्मेटिक सर्जरी' पर बवाल

  • 26 फरवरी 2018
जयललिता इमेज कॉपीरइट S. Varadarajan/BBC

दिवंगत जयललिता की मूर्ति के अनावरण के बाद तमिलनाडु सरकार को विरोधों का सामना करना पड़ रहा है. सोशल मीडिया पर सरकार की जमकर आलोचना हो रही है.

राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के 75वें जन्मदिन पर दो दिन पहले चेन्नई में उनकी कांसे की मूर्ति का अनावरण किया गया था, जिसके बाद विरोध का दौर शुरू हुआ. विरोध करने वालों का कहना था कि यह मूर्ति जयललिता जैसी लगती ही नहीं है.

इमेज कॉपीरइट AFP

यह मूर्ति चेन्नई स्थित एआईएडीएमके के मुख्यालय में लगाई गई थी. विरोध के बाद सरकार ने इसे बदलने का फ़ैसला किया है.

विरोध करने वालों में न सिर्फ़ जयललिता के समर्थक थे, बल्कि पार्टी के नेता भी इस मूर्ति को बदलने की मांग कर रहे थे.

नाम न छापने की शर्त पर पार्टी के एक अधिकारी ने बीबीसी हिंदी से कहा, "मूर्ति ने हम लोगों को चौंकाया. यह अम्मा (जयललिता) की तरह नहीं थी. यह उनका चेहरा नहीं था."

'जया अम्मा भी नहीं पहचान पातीं अपनी मूर्ति'

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने लिखा कि जो जयललिता की सही मूर्ति तक नहीं लगा सकते वो सही शासन कैसे चलाएंगे.

ट्विटर हैंडल @DrJoshyGeorge लिखते हैं, "यह घिनौना है कि एआईएडीएमके अंधा हो गया है और अपने नेता का चेहरा भी भूल गया है. जया अम्मा भी अपनी मूर्ति नहीं पहचान पाएंगी."

ट्विटर हैंडल @harikrishna_log से लिखा गया है कि जयललिता की मूर्ति थोड़ी सी भी उनकी तरह नहीं दिखती है. पार्टी को एक अनुभवी मूर्तिकार को यह काम देना चाहिए था.

एक अन्य यूजर ट्विटर हैंडल @ganesh_sabari से लिखते हैं, "पार्टी अपने नेता की हूबहू मूर्ति लगाने में भी नाकाम रही है. कल्पना कीजिए कि राज्य किन लोगों के हाथों में है."

ट्विटर हैंडल @vasudevan_k मूर्ति को हटाने की मांग करते हैं. वो लिखते हैं, "एआईडीएमके को मूर्ति बदलनी होगी. मूर्ति ने ख़ूबसूरत जयललिता के साथ अन्याय किया है."

राज्य के मंत्री के पंडियाराजन ने बीबीसी से कहा, "मूर्ति में चेहरे के हाव-भाव बदले जाएंगे. इसके बाद मूर्ति को फिर से स्थापित किया जाएगा."

पार्टी के एक अन्य अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया, "हम लोग मूर्ति बनवाने के लिए बाहर नहीं गए थे. तमिलनाडु में आठ जगहों पर ऐसी मूर्ति बनाई जाती है. यहां देश भर से लोग मूर्ति बनवाने आते हैं."

अधिकारी ने आगे कहा कि फिर से नई मूर्ति बनाई जाएगी. यह कांसे की थी इसलिए सिर्फ चेहरे में बदलाव करना मुश्किल है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए